Bhakti Story

महाभारत के पात्र

महाभारत के पात्र
महाभारत के पात्र

महाभारत के पात्र  आज इस पोस्ट के माध्यम से मैं आप लोगों को mahabharat के महत्वपूर्ण पात्रों के बारे बताने जा रहा हूँ. आईये mahabharat katha के प्रमुख पात्रों के बारे में जानते हैं.

Mahabharat Ke Pramukh Pandav Patra Bhag 1 Bhakti Story

mahabharat story

mahabharat story

युधिष्ठिर 

पांडवों के सबसे बड़ी भाई युधिष्ठिर थे. वैसे तो कर्ण पांडव में सबसे बड़े थे, लेकिन इसकी जानकारी लोगों को बहुत समय बाद हुई. युधिष्ठिर को धर्मनीति पर चलने के कारण ही “धर्मराज” कहा गया.

भीम 

महाबली भीम पवनपुत्र थे. यए पवन देव के वरदान स्वरुप जन्मे थे. ये पांडव में दूसरे नंबर के थे. ये महाबलशाली और गदा युद्ध में प्रवीण थे.

अर्जुन 

महाभारत के प्रमुख पात्रों में से एक महा धनुर्धारी अर्जुन पांडू और कुंती के पुत्र थे. इनका जन्म इंद्र देव के आशीर्वाद से हुआ था.

नकुल और सहदेव 

यह पांच पांच पांडव में से क्रमशः चौथे और पांचवे नंबर पर थे. इनका जन्म अश्विनी कुमारों के आशीर्वाद से हुआ था. ये दोनों जुड़वा थे.

श्रुतकर्मण 

श्रुतकर्मण द्रौपदी और सहदेव के पुत्र थे. इन्होने बहुत से कौरव योद्धाओं को युद्धक्षेत्र में धुल चटाई.

सतनीक

ये द्रौपदी और नकुल के पुत्र थे. ये भी बहुत ही वीर थे. इन्होने अपने बल से तमाम कौरव सेना का नाश किया.

श्रुतकीर्ति 

ये द्रौपदी और अर्जुन के पुत्र थे. इन्होने अपने भाइयों के साथ मिलकर कौरव सेना को बहुत ही क्षति पहुंचाई.

सुतसोम

ये भीम और द्रौपदी के पुत्र थे. ये भी महाबलशाली थे. इन्होने भी कौरव सेना का बहुत नाश किया.

प्रतिविन्द्य

ये द्रौपदी और युधिष्ठिर के पुत्र थे. इन्होने युद्ध में कई कौरव पुत्रों को मृत्यु दी.

घतोत्कक्ष 

ये भीम और हिडिम्बा का पुत्र था. यह महा बलशाली और मायावी था. इसने युद्ध क्षेत्र में आते ही कौरव सेना में हाहाकार मचा दिया. इसकी मृत्यु कर्ण के हाथों हुई थी.

वृहंत 

यह पांडव सेना बहुत ही बलशाली योद्धा था. जिसको दुशासन ने मारा.

क्षात्र धर्मन

यह पांडव सेना का एक प्रमुख योद्धा था.

शिखंडनी 

शिखंडनी एक किन्नर थी. यही किन्नर भीष्म पितामह के मौत का कारन बनी.

उत्तमौजा

यह पंचाल नरेश द्रुपद का पुत्र था.

चित्र युद्ध और चित्रयोधीन 

यह पांडव सेना का महत्वपूर्ण योद्धा था, जिसे विकर्ण ने मारा.

मित्रों महाभारत के पात्र   कैसी लगी, कमेन्ट में बताएं और अन्य bhakti story के लिए इस लिंक Swastika ka Rahasya Bhakti kahani पर क्लिक  करें.

About the author

Hindibeststory

1 Comment

Leave a Comment