love story Sad love Story

आखिर वह मुझे नहीं मिली

Written by Hindibeststory
आखिर वह मुझे नहीं मिली

आखिर वह मुझे नहीं मिली

आखिर वह मुझे नहीं मिली हेलो दोस्तों मेरा नाम राहुल सक्सेना है. आज मैं आपको अपनी सच्ची लव स्टोरी बताने जा रहा हूँ, लेकिन दर्द इस बात का है की यह लव स्टोरी अपनी पूर्णता को प्राप्त नहीं हो सकी.

आखिर वह मुझे नहीं मिली मित्रों आज मैं करीब एक साल से इस दर्द को खुद में ही छुपा कर रखा था, लेकिन अब इसे सहा नहीं जाता . अन्दर ही अन्दर बहुत घुटन सी होने लगी है, तो मैंने सोचा की क्यों ना इस दर्द को बाहर निकाल दिया जाए. मुझे पता है कि इस दर्द के बाहर आने पर मेरी जिंदगी में एक बार फिर से भूचाल आने वाला है, लेकिन अगर यह दर्द बाहर नहीं आया तो मेरे अन्दर का भूचाल मुझे खत्म ही कर देगा.

दोस्तों बात तब की है जब मैं कालेज में पढाई करता था. वहाँ एक लड़की थी रेशमा…..रेशमा चौधरी. बला की खुबसूरत….कजरारे नैन….लाल सुर्ख होंठ….गोरा रंग….अरे लड़की क्यों अप्सरा कहना चाहिए था. दोस्तों मुझे उस लड़की से पहली ही नजर में प्यार हो गया था. लेकिन मुझे हमेशा इस बात का दर था की कहीं यह प्यार एकतरफा तो नहीं है ना. मैं हमेशा से ही भगवान से इस बात की प्राथना करता था की यह प्यार एकतरफा ना हो.

मुझे भगवान ने वह समय दे ही दिया जब मैं इस बात को जांच लूँ की यह प्रेम एकतरफा है की नहीं. एक दिन कॉलेज की छुट्टी के बाद जब मैं घर जा रहा था तो देखा की रेशमा की साइकिल खराब हो गयी थी. वह साइकिल को एक आम के पेड़ के निचे खड़ी करके उसे बनाने की कोशिश कर रही थी और वह साईकिल बन नहीं रही थी. दरअसल में उसका दुपट्टा साइकिल के चैन में फंस गया था. मैंने जब यह देखा तो मैं वहीँ रुक गया और उसकी हेल्प की…उसके बाद हम साथ में ही अपने – अपने घर गए. रास्ते में हमने एक दुसरे के बारी काफी कुछ जाना…..धीरे धीरे हमारी दोस्ती परवान चढने लगी.

एक दिन मौक़ा देखकर मैंने उसे प्रपोज कर दिया. उसने उसी पल हाँ कह दिया. यह मेरे लिए किसी सपने से कम नहीं था. मैं उस दिन बहुत खुश था. लेकिन शायद यह ख़ुशी ज्यादा दिनों तक नहीं रहने वाली थी. एक्जाम का समय आने वाला था. हम लोग बहुत मेहनत से पढ़ाई में लग गए. अब मेरा लक्ष्य अच्छे नम्बर्स लाकर रेशमा को और अधिक खुश करना था. एक्जाम्स खत्म हो गए. रिजल्ट के दिन आ गए, लेकिन मुझे क्या पता था की आज के दिन दो दो परिणाम आने वाले हैं एक मेरे पढाई के और एक मेरे प्रेम के…..

मेरी नजर रेशमा को ही धुंढ रही थी.लेकिन रेशमा कहीं दिखाई नहीं दे रही थी. तभी राजू ने बताया की जाकर नम्बर्स ले ले……जब मैंने रिजल्ट लियए तो देखा की ९८% मार्क्स आये हैं.मैं बहुत ही खुश हो गया कि पहली परीक्षा में तो मैं पास हो गया अब दूसरी परीक्षा में भी अवश्य ही पास हो जाऊँगा. अब मेरी नजर और भी बेसब्री से रेशमा की राह ताकने लगीं.

तभी मैंने देखा की रेशमा एक हैंडसम शहरी लडके के साथ कार से उतरी…मैं यह देख कर हैरान हो गया की किस तरह वह लड़का उसकी बाहों में हाथ डालकर उससे बातें कर रहा था…उसके बिखरे हुए बालों को संवार रहा था…मैं दौड़कर रेशमा के पास गया, लेकिन रेशमा ने मुझे इग्नोर कर दिया…अब मुझे गहरा धक्का लगा….मैं तेजी सी उसके पास पहुंचा और उसका हाथ पकड़ कर बोला कौन है यह लड़का…..मेरा गुस्सा उस समय सातवें आसमान पर था.

लव शायरी सुनाने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.

बेहतरीन लव शायरी

क्या बेहूदगी है…हाथ छोड़…उस लडके ने कहा…

तू बीच में मत आ….यह हमारे बीच का मामला है….और तू है भी कौन..

इसके पहले की वह लड़का कुछ जवाब दे….रेशमा नी कहा की यह हेमंत है…..मेरा मंगेतर

और मैं…मैने पूछा

तू…तू मेरा…….टाईमपास और दोनों हंसने लगे….

मैं वहीँ बैठ गया……ऐसा लग रहा था की पूरा आसमान मेरे ऊपर गिर पडा हो..धरती में मेरे पैर जकड गए हों..किसी तरह से मेरे दोस्तों ने मुझे मेरे घर पहुंचाया और वहाँ कहा की इसकी तबिय्यत अचानक से खराब हो गयी थी….और उसव दिन के बाद सी मैं कुछ भी ठीक ढंग से नहीं कर पा रहा हूँ…ना ही खाने में मन लगता है….न ही कुछ करने में…..दोस्तों से पता चला की वह फेल हो गयी थी….तो भी इस दिल को उसके फेल होने का दर्द हुआ…उस दिल को जिसे उसने ठुकरा दिया है….खैर दोस्तों मैंने आज इस पोस्ट आखिर वह मुझे नहीं मिली के माध्यम से अपना सारा दर्द निकाल दिया है….मैं अब शायद फिर से वही राहुल सक्सेना बन पाउँगा जो पहले था…..धन्यवाद

मित्रों मेरी यह पोस्ट आखिर वह मुझे नहीं मिली कैसी लगी अवश्य ही बताएं और भी कहानियों के लिए इस लिंक Do Pal Ka Pyar Sad Love Story पर क्लिक करें.

About the author

Hindibeststory

Leave a Comment