Biography

Abdul kalam biography

Abdul kalam biography
Abdul kalam biography
Written by Hindibeststory

Abdul kalam biography Dr Apj abdul kalam का जन्म   १५ अक्टूबर १९३१ को तमिलनाडु के रामेश्वरम के धनुषकोडी गांव में हुआ था. इनके पिता का नाम जैनुलाबिदीन और माता का नाम अशिअम्मा था. उनके पिता एक नाविक और माता गृहिणी थीं. apj abdul kalam के जीवन पर उनके पिता का बहुत प्रभाव पड़ा. बेशक उनके पिता ज्यादा पढ़ लिख नहीं पाए थे , लेकिन उनके संस्कार apj abdul kalam के बहुत काम आये. अपने स्कूल के दिनों अब्दुल कलाम पढ़ाई- लिखाई में सामान्य थे.लेकिन उन्हें नयी चीजें सिखने का बहुत शौक था.

About Abdul kalam

डाक्टर अब्दुल कलाम का पूरा नाम Avul Pakir Jainulabdeen Abdul Kalam है.
अब्दुल कलाम ५ भाई और ५ बहन थे.परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक ना होने के कारण उन्होंने छोटी उम्र में ही समाचार पत्र वितरण का कार्य किया. पांच वर्ष की अवस्था में dr apj abdul kalam का दीक्षा-संस्कार हुआ. पांचवी कक्षा में पढ़ते समय उनके शिक्षक इयादुराई सोलोमन बच्चों को पक्षी के उड़ने के तरीके के बारे में समझा रहे थे, लेकिन जब बच्चों को समझ में नहीं आया तो वे बच्चों को समुद्र तट पर ले गए और उन्हें समझाया. तभी apj abdul kalam ने यह तय कर लिया था कि उन्हें विमान विज्ञान में जाना हैं.

abdul kalam life history

अब्दुल कलाम ने १९५० में मद्रास इंस्टीटयूट ऑफ़ टेक्नालाजी से अंतरिक्ष विज्ञानं में स्नातक की उपाधि प्राप्त की. उसके बाद उन्होंने हावरक्राफ्ट परियोजना पर काम करने के लिए भारतीय रक्षा अनुसन्धान एवं विकास केंद्र अर्थात DRDO में प्रवेश किया. १९६२ में वे भारतीय अंतरिक्ष अनुसन्धान संगठन से जुड़े और कई उपग्रह प्रक्षेपण परियोजनाओं में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. उसके बाद परियोजना निदेशक के रूप में उपग्रह प्रक्षेपण यान SLV3 के निर्माण में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. इसी उपग्रह प्रक्षेपण यान १९८२ में रोहिणी उपग्रह सफलता पूर्वक प्रक्षेपित किया गया था.

abdul kalam story and apj abdul kalam information

१९८२ में रोहिणी उपग्रह की सफलता के बाद भारत अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष क्लब का सदस्य बन गया. इसरो के उपग्रह लांच व्हीकल प्रोग्राम में भी अब्दुल कलाम का बहुत बड़ा योगदान रहा है. इसके बाद उन्होंने स्वदेशी गाइडेड मिसाइल का निर्माण किया. अग्नि और पृथ्वी जैसी मिसाइलों को स्वदेशी तकनिकी से निर्मित किया गया है. कलाम जुलाई १९९२ से दिसम्बर १९९९ तक  रक्षामंत्री के विज्ञान सलाहकार और सुरक्षा शोध और विकास विभाग के सचिव रहे. वे भारत सरकार के मुख्य वैज्ञानिक सलाहकार भी रहे. dr abdul kalam की देख – रेख में भारत ने १९९८ में पोखरण में अपना दूसरा सफल परमाणु परिक्षण किया. वर्ष १९९८ में ही डाक्टर कलाम ने ह्रदय चिकित्सक सोमा राजू के मिलकर एक कम कीमत का ‘ कोरोनरी स्टेंट ‘ का विकास किया. जिसका नाम ‘ कलाम – राजू स्टेंट ‘ रखा गया.

एक रक्षा वैज्ञानिक के तौर पर उनकी उपलब्धियों को देखते हुए N.D.A. की गठबंधन सरकार ने २००२ में राष्ट्रपति का उम्मीदवार बनाया. इसका लगभग सभी दलों से समर्थन किया और ९०% बहुमत के साथ लक्ष्मी सहगल को हराकर वे भारत के ११वे राष्ट्रपति बने. उन्हें ‘ जनता का राष्ट्रपति ‘ कहा गया.

about kalam books

राष्ट्रपति पद से सेवानिवृत्ति के बाद डाक्टर अब्दुल कलाम शिक्षण, लेखन, शोध, मार्गदर्शन जैसे कार्यों में व्यस्त रहे. वे भारतीय प्रबंधन सस्थान सिलोंग, अहमदाबाद, इंदौर जैसे संस्थानों से विजिटिंग प्रोफ़ेसर के तौर पर जुड़े रहे. इसके अलावा वह भारतीय विज्ञान संस्थान बैंगलोर के फेलो, इंडियन इंस्टीटयूट आफ स्पेस साइंस एंड टेक्नालाजी थिरुवनन्थपुरम के चांसलर, अन्ना यूनिवर्सिटी चेन्नई में एयरोस्पेस इंजीनियरिंग के प्रोफेसर भी रहे. उन्होंने आई.आई.टी. हैदराबाद, बनारस हिन्दू
यूनिवर्सिटी , अन्ना यूनिवर्सिटी में सूचना प्रौद्योगिकी भी पढाया.

डाक्टर कलाम ने इंडिया २०२० : अ विजन फॉर द न्यू मिलेनियम, विंग्स ओग फायर :ऐन आटोबायोग्राफी , इग्नाइटेड माइंडस : अनलीशिंग द पावर विदीन इंडिया , मिशन इंडिया : इंडोमिटेबल स्पिरिट , गाइडिंग सोल्स- डायलॉग्स ऑफ़ द पर्पज ऑफ़ लाइफ आदि किताबें लिखी.

dr abdul kalam image Abdul kalam biography

Abdul kalam biography
Abdul kalam biography

abdul kalam quotesAbdul kalam biography

1-इसके पहले कि सपने सच हों आपको सपने देखने होंगें.

२-शिक्षण एक बहुत ही महान पेशा है जो किसी व्यक्ति के चरित्र, क्षमता और भविष्य को आकार देता है. अगर लोग मुझे एक शिक्षक के रूप में याद रखते हैंतो यह मेरे लिए सबसे बड़ा सम्मान होगा.

३-अगर आप सूरज की तरह चमकना चाहते हो तो पहले सूरज की तरह जलो.

४-विज्ञानं मानवता के लिए एक खुबसूरत तोहफा है. हमें इसे बिगाड़ना नहीं चाहिए.

५- महान सपने देखने वालों के महान सपने अवश्य पुरे होते हैं.

६- हमें हार नहीं माननी चाहिए.हमें समस्यायों को खुद को हराने नहीं देना चाहिए.

७- इंसान को कठिनाइयों की आवश्यकता होती है क्योंकि सफलता का आनंद उठाने के लिए यह जरुरी है.

८- छोटा लक्ष्य अपराध है, महान लक्ष्य होना चाहिए.

९-क्या हम यह नहीं जानते आत्म सम्मान आत्म निर्भरता के साथ आता है.

१०- महान शिक्षक ज्ञान , जूनून और करुणा से निर्मित होते हैं.

११- यदि हम स्वतंत्र नहीं हैं तो कोई हमारा आदर नहीं करेगा.

abdul kalam death

२७ जुलाई २०१५ की शाम को अब्दुल कलाम भारतीय प्रबंधन संस्थान शिलांग में ‘ रहने योग्य ग्रह ‘ पर व्याख्यान दे रहे थे उसी समय उन्हें एक जोरदार दिल का दौरा पड़ा और वे बेहोश होकर गिर पड़े . लगभग ६.३० बजे बेहद गंभीर हालत में उन्हें बेधानी हास्पिटल में आईसीयू में ले जाया गया और दो घंटे बाद मृत्यु की पुष्टि कर दी गयी. हास्पिटल के सिईओ जान साइलो ने बताया की जब उन्हें हास्पिटल में लेय गया तब तक उनकी नब्ज और ब्लड प्रेशर साथ छोड़ चुके थे. उनकी मृत्यु की खबर सुनते ही मेघालय के राज्यपाल वी.षडमुखनाथन सीधे अस्पताल पहुंचे और बाद में उन्होंने बताया कि डाक्टरों की बहुत कोशिश के बाद भी डाक्टर कलाम को बचाया नहीं जा सका और ७.४५ पर उन्होंने अंतिम सांस ली.

मित्रों Abdul kalam biography यह apj abdul kalam information आपको कैसी लगी, कमेन्ट में बताएं और भी अन्य जानकारी के लिए इस लिंकhttps://www.hindibeststory.com/biography-of-rajanikant-in-hindi/ पर क्लिक करें.

About the author

Hindibeststory

1 Comment

Leave a Comment