You cannot copy content of this page
Suspense Story

Adhikar suspense stories

Adhikar suspense stories अधिकार…अधिकार..धिकार है ऐसे अधिकार को, जो बगैर किसी कर्तव्य के ही किसी को दिया जाता है. लोग आज अपने कर्तव्य को भुलाते चले जा रहे हैं और उन्हें सिर्फ़ अधिकार याद रहता है. …..गुस्से से लाल-पीला होते हुए प्रमोद चौधरी मोदक वाला बड़बड़ा रहे थे. वहां उनकी बात सुनने वाला कोई नहीं था.

थोड़ी देर बाद किसी ने उनके घर का दरवाजा खटखटाया…गुस्से को काबू करते हुए जैसे ही वे दरवाजा खोलने के लिए आगे बढ़े कि ट्रिंग-ट्रिंग की आवाज के साथ उनका फोन बाज उठा…उन्होने फ़ोन काट कर दिया और दरवाजा खोला तो देखा कि मोहन और विशाल खड़े थे. दोनो ही युवा थे.
उन दोनो को सामने पाकर प्रमोद चौधरी ने कहा क्या हुआ…तुम लोग आज काम पर नहीं गये क्या?
नहीं-नहीं हम जेया ही रहे थे कि आप तेज आवाज़ में कुछ बोल रहे थे….तो हम वही देखने आए थे कि कोई दिक्कत तो नहीं है ना….विशाल ने कहा
आप पढ़ रहे है Adhikar suspense stories
नही….नहीं कोई बात नहीं है बेटा…सब ठीक है….आगे प्रमोद चौधरी कुछ बोलने जा रहे थे कि फ़ोन की घंटी फिर बजी. फ़ोन उठाते हुए चौधरी जी ने विशाल और मोहन से कहा कि तुम लोग जाओ…हम फिर कभी बात कर लेंगे. चौधरी जी बात करने लगे और ओ दोनो युवा चले गये.
hindibeststory free image

Jasoos

हेलो मै अजीत बोल रहा हूँ…उधर से आवाज़ आई
हाँ…हाँ वकील साहब बोलिए क्या हो गया….चौधरी जी ने कहा
अरे आपके मैनेजर का फ़ोन आया था, कामगारों ने कल सी स्ट्राइक पर जाने का फ़ैसला किया है…अजीत ने कहा
मेरे मैनेजर ने मुझे फ़ोन किया था…..मैफ़ोन नही रिसीव कर पाया….अच्छा यह बताइए उनका नेता कौन है….चौधरी ने कहा
रमेश….रमेश रस्तोगी नाम है उसका,यहा मैं अपने असिस्टेंट को भेजता हूँ और आप भी कंपनी पहुंचो…वहीं सारा मैटर समझ में आएगा और हां मै शायद नहीं आ सकूंगा…ओके, फ़ोन रखता हूँ..और फिर फ़ोन कट गया.
Adhikar suspense stories

Handsome man

चौधरी जी का दिमाग़ खराब हो गया…वो टहलते हुए कुछ सोच ही रहे थे कि विशाल और मोहन जाते हुए दिखे…उन्होने आवाज़ लगाकर उन्हें बुलाया और सारी बात बताई और उन्हे तुरंत कंपनी जाने को कहा. चौधरी जी की स्टील की कंपनी थी. विशाल और मोहन प्राइवेट जासूस का काम करते थे और इसके पहले भी उन्होने चौधरी जी का कई काम किया था….चौधरी से उन्हे मोटी रकम मिलती थी.
मोहन और विशालकांपनी पहुँच गये…उसी समय वकील साहब का असिस्टेंट भी आ गया…उसका नाम विराज अग्निहोत्री था…वह बहुत ही तेज-तर्रार था. वहां विशाल और मोहन से चौधरी साहब की पूरी बात बता दी.
Adhikar suspense stories

Doorbin

तब विराज ने रमेश रस्तोगी को बुलवाया और कहा कि कल सुबह १० बजे आप सभी लोग पुराने काली मंदिर के पास आइये…वहीं पंचायत के माध्यम से फ़ैसला किया जाएगा…अगर यह सर्वमान्य होगा तो ठीक…नहीं तो दोनो पक्षों को कोर्ट जाने का अधिकार है.
आप पढ़ रहे हैं Adhikar suspense stories
अगले दिन १० बजे तक सभी लोग मंदिर प्रांगण में आ गयी थे. उसमे बहुत सम्मानित लोगों को दोनो पक्षों ने आमंत्रित किया था. तब वकील अजीत की तरफ से विराज अग्निहोत्री ने रनेश से पूछा..सर आपने काम बंद करने का फ़ैसला किया है…आख़िर में आपको कंपनी क्या दिकाट है?
हमें अधिकार चाहिए…रमेश गरज कर बोला
ठीक है…लेकींन आपको कौन सा अधिकार चाहिए…आपको हर सुविधाए दी गयी हैं…आपके पूरे परिवार के हास्पिटल का खर्च, आपके हास्पिटल का खर्च, पी.एफ., बोनस, आने-जाने का भाड़ा, रूम का भाड़ा, साल में २ महीने की अतिरिक्त छुट्टी अर्थात पेड हॉलीडे,….अब कों सा अधिकार चाहिए आपको…जहां तक मुझे पता है इससे ज्यादा और कुछ नहीं दिया जा सकता…अब क्या चाहिए आपको.

रमेश चुप रहा..

Adhikar suspense stories

Hindi kahani

अग्निहोत्री ने फिर कहा…सर आपको अपने Adhikar याद हैं पर कर्तव्य नहीं…सर ताली दोनो हाथों से बजती है…अगर चौधरी जी ये सब फ़ैसेलिटीज आपको नहीं देते तो तो आपकी मांग सही थी…जायज़ थी…लेकिन बीनना कहे अगर आपकी सारी मांगे पूरी हो गयी हैं तो फिर आपने यह तमाशा खड़ा किया. अगर आपने इस बखेडे की जगह काम पर ध्यान दिया होता तो कंपनी और भी आगे बढ़ती तो आपको भी और फ़ायदा होता…सर अधिकार दोनो का होता है…अगर आपका अधिकार है तो चौधरी जी का भी अधिकार है…आख़िर चौधरी जी ३ महीने का एडवांस पेमेंट देकर आपको क्यों ना काम से निकल दें. आप किस अधिकार की बात कर रही थे..हमीं पता चला है कि आप प्रोडक्शन कम करवाना चाहते थे….दूसरी कंपनी न आपको इसके लिए पैसे दिए हैं और इसका सबूत भी मेरे पास मौजूद है….उसके बाद अग्निहोत्री ने रमेश की दूसरे कंपनी के मैनेजर संग हुई उस बात को सुना दिया जिसमें रमेश ने हड़ताल करके प्रोडक्शन कम करने की बात कही थी.
Adhikar suspense stories

Taraju

अब रमेश की चोरी पकड़ी जा चुकी थी….चौधरी जी ने उसे काम से निकल दिया….उस रिकार्डिंग को लाने के लिए और अपनी बात को पूरे अच्छे से रखने के लिए अग्निहोत्री, विशाल और मोहन को सम्मानित किया गया.दोस्तों यह short suspense stories Adhikar suspense stories आपको यह कहानी अवश्य पसंद होगी…तो फटाफट ब्लॉग सब्सक्राइब कर लें और भी अन्य hindi story के लिए इस लिंक pari ki kahani in hindi/परी की कहानी पर क्लिक करें.

About the author

Hindibeststory

Leave a Comment