Uncategorized

अघोरी बाबा

अघोरी बाबा
Written by Abhishek Pandey

अघोरी बाबा यह घटना एक haunted jungle की है. जो कि मैंने अपने घर वालों से सुनी है और उसकी बाद से ही मैं उस haunted jungle के पास जाने की हिम्मत नहीं जुटा पता हूँ. मुझे बहुत अधिक डर लगता है. यह jungle हमरे गांव से कुछ किलोमीटर की दूरी पर है. यह जंगल बहुत ही घना है. इसमें बहुत सारे खतरनाक जीव और ghost अर्थात भूत रहते हैं.

आज एक नहीं hindi horror film सिनेमाघर में आई थी. जिसे देखने के लिए मैं और हमारी पूरी फैमिली गयी हुई थी. यह Indian horror movies थी. जो कि बहुत ही डरावनी थी. फिल्म देखने की बाद हमने कुछ शापिंग की और वही से रात के खाने के लिए खाना भी पैक करवा लिए. हमें घर पहुंचते – पहुंचते शाम हो गयी थी. अब मेरे दिमाग में वही फिल्म चलने लगी थी. उस फिल्म का मेरे दिमाग पर इतना असर हुआ था कि वह real life horror stories जैसी लग रही थी.

अब हम अपने घर पहुँच गए थे. पिताजी ने कम्पाउंड का गेट खोला और हम अन्दर आ गए. उसके बाद उन्होंने जैसे ही घर का प्रमुख दरवाजा खोला तभी एक बिल्ली अचानक से कूदते हुए भागी. सभी लोग डर गए और चीखे निकल गयी. तभी पिताजी गुस्से से बोले पहले ही कहा था hindi horror film नहीं देखेंगे. कोई दूसरी फिल्म देख लेते हैं. किसी ने कोई जवाब नहीं दिया. सभी लोग फ्रेश होकर बरामदे में आये. लेकिन सभी के चेहरे पर उस horror film का डर साफ दिखाई दे रहा था.

अघोरी बाबा
अघोरी बाबा

‘ एक काम करो, सभी लोग एक बार अघोरी बाबा का नाम लो. सब डर छू मंतर हो जाएगा ‘ पिताजी ने कहा, उसके बाद सभी लोगों ने आँख बंद कि और अघोरी बाबा का नाम लिया और सचमुच यह तो चमत्कार हो गया, सबका डर खत्म हो गया था. तब मैंने अपने पिताजी से पूछा कि यह अघोरी बाबा कौन हैं. तब उन्होंने बताया कि वे एक aghori sadhu हैं. जो कि aghori vidya और aghori mantra में पूरी तरह से पारंगत हैं. उनके इन मन्त्रों के आगे किसी प्रकार के भूत और paranormal शक्तियों की कुछ नहीं चलती है. वे एक बहुत ही ताकतवर अघोरी बाबा हैं जो कि हमेशा ही kale ghode की ही सवारी करते हैं. अब उनके बारे में जानने की मेरी जिज्ञासा और अधिक हो रही थी. मैंने अपने पिताजी से इसके बारे में और अधिक बताने के लिये कहा.

तब उन्होंने बताया कि गांव के ही लखन चाचा की तबियत एक बार बहुत अधिक खराब हो गयी थी. तब उन्होंने अपने लडके राजिव को jungle से बकरियों के लिए चारा लाने के लिए कहा. राजिव को जंगल से बहुत डर लगता था और उस जंगल के बारे में तमाम बाते प्रचिलित थीं. इसीलिए वह जंगल नहीं जाना चाहता था. लेकिन वह अपने पिता की बात को टाल नहीं सकता था. अतः उसने जंगल जाने का निर्णय किया. लखन चाचा ने उसे चेता दिया था कि वह जंगल में अन्दर तक ना जाए , वहाँ पर तमाम तरह की paranormal activity होती है.

जब राजिव जंगल पहुंचा, तो देखा कि किनारे ना तो ज्यादा घास थी और ना ही पेड़ों पर पत्ते ही थे. उसने सोचा कि डर ककी वजह से ज्यादातर लोग किनारे से ही चारा लेकर चले जाते हैं, शायद इसीलिए यहाँ पर चारा नहीं है. तब उसने थोडा अन्दर जाने की बात सोची. वह अन्दर गया और जल्दी जल्दी पत्तियां इकट्ठा करने लगा. पत्तियों को इकठ्ठा करने बाद उसे बाहर आने का रास्ता ही नहीं सूझ रहा था. वह भ्रमित हो गया था या यूँ कहें की भ्रमित कर दिया गया था. वह परेशान होकर इधर- उधर भागने लगा, लेकिन बाहर आने की बजाय वह जंगल में और भी अन्दर पहुँच गया.

वह बहुत अधिक डर गया था. तभी उसे दो लोगों की कुछ बात करने की आवाज सुनाई दी. उसके मन में कुछ हौसला आया. वह बेतहाशा उस तरफ भागने लगा, जिस तरफ से यह आवाज़ आ रही थी. जब वह वहां पहचान तो उस व्यक्ति की केवल पीठ दिखाई दे रही थी. उसने धीरे से उनसे बाहर जाने का रास्ता पूछा…अरे यह क्या वे दोनों आदमी अचानक से एक डरावनी आवाज के साथ गायब हो गए. राजिव बुरी तरह डर गया था. वह जैसे ही पीछे मुडा तो एक भयानक भूत, जिसके मुंह से खून टपक रहा था….आँखे सुर्ख लाल…हाथ में खोपड़ी उसके सामने दिखा. राजिव चीखा…उसकी चीख की कोई भी प्रतिक्रया और सियाह जंगल से नहीं आई. वह तेजी से भागने लगा. उसके दो सरकटे भूत उसका पीछा कर रहे थे. वह भाग रहा था कि वह एक चुड़ैल से टकरा गया. राजिव के शरीर में उस चुड़ैल के बदन से टपक रहा खून लग गया था. वह बहुत ही भयानक थी. उसके पाँव उलटे थे और उसका आधा शरीर गायब था. राजिव वहीँ बेहोश हो गया.

कुछ देर बाद उसकी आँख खुली तो उसने देखा कि हर तरफ हड्डियों का अम्बार लगा हुआ था. वही वे सारे भूत बैठकर paranormal activity कर रहे थे. उनकी आवाज से रूह कपा देने वाली थी. वहाण का माहौल पूरी तरह से बेहद डरावना था. अब राजिव ने यह समझ लिया था कि उसकी मृत्यु सुनिश्चित है. तभी एक भूत आय और उसे घसीटते हुए ले जाने लगा….अन्य भूत अंगारभरी खुनी आँखों से राजिव की तरफ देख रहे थे. तभी एक चमत्कार हुआ. kale ghode पर सवार अघोरी बाबा जो कि aghori vidya में पारंगत थे, हाथ में त्रिशूल लिए वहाँ पहुंचे. उन्हें देखते ही सभी paranormal शक्तियां शोर मचाते हुए भाग गयीं. उन अघोरी बाबा ने राजिव को अपने आश्रम में लाया और खाने के लिए फल दिए. फल खाते ही राजिव को नींद आ गयी.

इधर जब राजिव काफी समय तक घर नहीं पहुंचा तो उसके घर के लोग परेशान हो गए. लेकिन किसी की भी जंगल में जाने की हिम्मत नहीं हो रही थी. सभी लोग पास के Panchmukhi Hanuman mandir पहुंचे और हनुमान जी की प्रार्थना करने लगे. सारी रात प्रार्थना ऐसे ही चलती रही. सुबह होने पर बहुत सारे लोग इकठ्ठा होकर उस haunted jungle में पहुंचे. थोड़ी ही दूर पर राजिव बेहोश मिला. उसे लोगों ने उठाकर घर लाया और होश में आने के बाद उसने साड़ी बात बताई और कहा कि अघोरी बाबा ने कहा है कि जो कोई भी उनका नाम लेगा, उसका डर तुरंत ही खत्म जाएगा, मित्रों यह horror story in hindi अघोरी बाबा आपको कैसे लगी, कमेन्ट में बताएं और भी Hindi best story की अन्य Hindi Kahani के लिए इस लिंक https://www.hindibeststory.com/aghori-daravani-kahani/ पर क्लिक करें.

About the author

Abhishek Pandey

Leave a Comment