image

bhangarh ka kila

bhangarh ka kila
bhangarh

bhangarh ka kila राजस्थान के अलवर में स्थित bhangarh ka kila एशिया के सबसे डरावनी जगहों में से एक माना गया है.सरकारी आदेश है कि यहां शाम 6 बजे के बाद किसी को भी रुकने दिया जाए और इसीलिए लगभग ५.३० से ही लोगों को वहाँ से हटाया जाता है. वह पर एक चेतावनी बोर्ड है. भानगढ़ एक प्राचीन नगर है.कहा जाता है है कि एक तांत्रिक की बुरी नजर इस समृद्ध किले के विनाश का कारन बनी.

bhangarh ka kila

bhangarh

bhangarh ka kila

bhangarh

इतिहास के अनुसार bhangarh ka kila का निर्माण आमेर के राजा भगवंत दास ने १५७३ में अपने छोटे बेटे माधो सिंह के लिए किया था.इसके बाद ३ पीढ़ियों ने इस नगर पर राज किया. कहा जाता है भानगढ़ की राजकुमारी रत्नावती बहुत खुबसूरत थीं. उन पर एक तांत्रिक सिंघिया उस पर मोहित हो गया. वह मौके के तलास में लगा रहा.

bhangarh ka kila

bhangarh

bhangarh ka kila

bhangarh

एक बार राजकुमारी की दासी बाजार से तेल लेने गयी और उसी समय तांत्रिक ने उस तेल को अभिमंत्रित कर दिया, जिससे रानी सम्मोहित होकर उसके पास चली आती. लेकिन शायद दासी को इस पर शक हो गया और उसने उस तेल को शिला पर गिरा दिया और वह शिला तांत्रिक के तरफ खिंची चली आई और उसमें वह तांत्रिक दब गया और मृत्यु से पहले उसने श्राप दे दिया कि अगली सुबह इस नगर का कोई भी निवासी नहीं देख पायेगा. सभी की मृत्यु हो जायेगी.इस श्राप का प्रभाव हुआ और रातो रात पूरा भानगढ़ का किला वीरान हो गया. कहा जाता है की अकाल मृत्यु के कारण वहाँ नगर के लोगों की आत्माएं भटकती रहती हैं.

bhangarh ka kila

bhangarh

bhangarh ka kila

bhangarh

यह एशिया के डरावनी और भुतही जगहों में से एक है. यहाँ शाम के साथ ही आत्माओं का राज हो जाता है. यहाँ शाम के बाद लोगों का जाना प्रतिबंधित है. मित्रों मेरी यह पोस्ट bhangarh ka kilaआपको कैसी लगी अवश्य बताएं और इस तरह की के लिए इस इस ब्लॉग को सबस्क्राइब करें और दूसरी के लिए इस लिंक Bhoot ki kahani पर क्लिक करें.

About the author

Hindibeststory

Leave a Comment