kids/cinderella story

cinderella story in hindi

cinderella story in hindi
cinderella story in hindi
Written by Hindibeststory

cinderella story in hindi एक गाँव में एक किसान अपनी बेटी के साथ रहता था. उसकी पत्नी की मृत्यु हो गयी थी. उसकी बेटी का नाम cinderella था. लोगों के बार बार कहने और बेटी को दुखी देखकर उसने दूसरी शादी कर ली. उसकी दूसरी पत्नी भी एक विधवा थी और उसकी दो बेटियाँ थी. वह cinderella से बहुत चिढाती थी. क्योंकि cinderella बहुत ही खुबसूरत थी. समय बीता और cinderella के पिता की मृत्यु हो गयी.

अब तो जैसे cinderella पर आफत का पहाड़ टूट पडा. उसकी सौतेली मां उसे नौकरानी की तरह रखती थी. cinderella को घर का हर काम करना पड़ता और भोजन में लास्ट में बचा हुआ थोड़ा बहुत खाना मिलता और पहनने के लिए फाटे हुए कपडे. घर में उससे कोई ठीक से बात भी नहीं करता. कुछ भी नयी वास्तु आती तो उसे इससे दूर रखा जाता. cinderella जब रात को अपने कमरे में जाती तो खूब सिसक सिसक कर रोती. कुछ पक्षियाँ उसके दोस्त बन गए थे. उन्हीं के साथ वह समय बिताती थी.

उसके नगर में एक राजा रहते थे. उनका पुत्र आज २१ वर्ष का हो गया था. राजा बहुत खुश थे. उन्होंने इसके उपलक्ष्य में एक शानदार पार्टी का आयोजन करना चाह. उन्होंने अपने मंत्री को आदेश दिया कि वे नगर के पूरी जनता को इस जश्न के लिए आमंत्रित करें.मंत्री ने वही किया और पुरे नगर में सबके घरों में निमंत्रण पत्र भिजवा दिए.

जब निमंत्रण पत्र cinderella के घर आया तो उसकी सौतेली मां बहुत खुश हुई और उसने अपने लड़कियों से सज संवर को जश्न में चलने के लिए कहा. जब cinderella ने कहा कि वह भी चलना चाहती है. इस पर उसकी सौतेली मां ने कहा कि वह नहीं जा सकती है. उसकी सौतेली मां ने कहा कि उसे घर का काम करना है और उसके पास अच्छे कपडे भी नहीं है.

सभी लोग चले गये.cinderella अपने कमरे में जाकर रो रही थी. तभी एक तेज रोशनी हुई और एक परी प्रकट हुई. उसने कहा रोओ मत cinderella. मुझे प्रकृति के दूतों से सबकुछ पता चल चुका है. तुम इस जश्न में जरुर शामिल होगी.

लेकिन कैसे मेरे पास तो कपडे भी नहीं हैं….cinderella ने कहा

आप पढ़ रहे हैं cinderella story in hindi

उसकी चिंता मत करो. यह कहकर परी ने अपनी जादुई छड़ी उठाई और एक मन्त्र पढ़ा. मंत्र पढ़ने ही cinderella के कपडे बहुत ही सुन्दर हो गए. परी ने फिर मंत्र पढ़ा और उसकी जूती बहुत ही खुबसूरत हो गए. उसके बाद उसने एक बग्घी भी बुला ली और cinderella से कहा कि अब जाओ, लेकिन ध्यान रहे रात १२ बजे के पहले तुम्हे वापस आना होगा. क्योंकि उसके बाद यह जादू ख़त्म हो जाएगा.

cinderella मुस्कुराई और परी को धन्यवाद देकर महल की और चली. cinderella तो वैसे ही बहुत खुबसूरत थी और उसपर उसके कपडे उसकी खूबसूरती को और भी बढ़ा रहे थे. पूरी महफ़िल में वह सबसे अलग ही दिख रही थी. सभी लोग सिर्फ उसे ही देख रहे थे. जब राजकुमार ने उसे देखा तो वे उसपर फ़िदा हो गए. वे पूरी शाम cinderella के साथ ही रहे. cinderella बहुत दिनों बाद इतनी खुश थी और इस ख़ुशी में उसे समय का भान नहीं रहा. अचानक से उसकी नजर घडी पर पड़ी. १२ बजने वाला था. उसने राजकुमार से कहा कि अब उसे जाना होगा. राजकुमार ने उसे रोकने की कोशिश की लेकिन वह तेजी से वहाँ निकल गयी. इसी घटनाक्रम में उसकी एक जूती वहीँ छूट गयी.

cinderella तेजी से बग्घी की और बढ़ी और वहाँ से निकल गयी और इधर राजकुमार ने वह जूती उठा ली और अपने पिता से कहा कि वे उसी लड़की से शादी करेंगे, जिसे यह जूती फीट आएगी. परी यह सब देख रही थी. अगले दिन से मंत्री स्वयं सबके घर जाकर वह जूती सभी लड़कियों को पहनाकर देख रहे थे. इसी क्रम में वे cinderella के घर भी आये.उसकी सौतेली मां अपनी दोनों लड़कियों को बुलाया लेकिन उन्हें यह जूती नहीं हुई. इसपर मंत्री ने पूछा कि इस घर में और कोई लड़की रहती है. तो cinderella की सौतेली मां ने तपाक से कहा नहीं यहाँ और कोई लड़की नहीं रहती है.

वे लोग जाने लगे तभी मंत्री को अचानक से तेज प्यास लगी. क्योंकि परी ने उनके अन्दर की नमी को निचोड़ लिया था. उन्होंने पानी माँगा और आदत के अनुसार सौतेली मां ने cinderella से पानी लाने को कहा. पानी पीने के बाद मंत्री ने कहा कि आपके घर में एक और लड़की थी. आपने झूठ क्यों बोला ? यह मेरी नौकरानी है. cinderella की सौतेली मां ने बहाना बनाते हुए कहा.

इसे भी जूती पहनाई जाए …मंत्री ने कहा . इसपर उसकी सौतेली मां ने बहुत रोकने की कोशिश की , लेकिन मंत्री नहीं माना. अरे यह क्या जूती तो हो गयी.मंत्री बहुत खुश हुआ. तब cinderella की सौतेली मां ने कहा इसमें क्या है. जूती और भी किसी अन्य को हो सकती है. आपको पुरे नगर में सभी को चेक करना चाहिए.

इसकी कोई जरुरत नहीं है मंत्री जी….इस जूती की दूसरी जोड़ी मेरे पास ही है…cinderella ने कहा और cinderella जूती लाने चली गयी और मन ही मन सोची शायद परी ने इसीलिए इस जूती को संभालकर रखने के लिए कहा था. कुछ देर में वह दूसरी जोड़ी लेकर आ गयी.अब किसी प्रमाण की आवश्यकता नहीं हैं. राजा तक यह सूचना पहुंचा दी जाए कि वह लड़की मिल चुकी है…मंत्री ने कहा और cinderella को बड़े ही आदर से महल लाया गया और वहाँ cinderella और राजकुमार का विवाह हो गया और दोनों ख़ुशी से रहने लगे.

मित्रों आपको मेरी यह cinderella story in hindi की स्टोरी कैसी लगी जरुर बताएं और भी अन्य cinderella story in hindi के तरह की कहानिया के लिए ब्लॉग को घंटी दबाकर जरुर सबस्क्राइब कर लें. दूसरी cinderella story in hindi hindi kahani के लिए इस लिंक stories for kids पर क्लिक करें.

About the author

Hindibeststory

Leave a Comment