hindi funny stories

funny short stories in hindi हिंदी कामेडी कहानियां

funny short stories in hindi
Written by Abhishek Pandey

funny short stories in hindi   एक सरकारी स्कूल का इंस्पेक्शन करने शिक्षा अधिकारी आये हुए थे . एक क्लास में गए तो वह इंग्लिश का पीरियड चल रहा था . एक बच्चे को खड़ा कर के पूछा – “तुमको इंग्लिश आती हैं ?”

 

 

शिक्षा अधिकारी – “व्हाट इज योर नेम ?”
छात्र – “सर ! माय नेम इज सन लाइट . “

 

 

शिक्षा अधिकारी – “क्या बक रहे हो?”
छात्र – “सर दरसल मेरा नाम है सूर्य प्रकाश – इस लिए इंग्लिश में सन लाइट .”

 

 

शिक्षा अधिकारी – “व्हाट इज योर फादर्स नेम ?”
छात्र – “सर ! माय फादर्स नेम इज लाइफ़बॉय  . “

 

 

शिक्षा अधिकारी – “क्या बक रहे हो?”
छात्र – “सर दरसल उनका नाम बाल जीवन है – इस लिए इंग्लिश में लाइफ़बॉय .“

 

 

शिक्षा अधिकारी – “शांत रह बेवकूफ .. अब कन्वर्सेशन बताओ – एक लड़की सड़क के उस पार खडी हैं , उसको अपने पास कैसे बुलाओगे ? इंग्लिश में बताओ .”

 

 

छात्र – “सर ! मैं उसको बोलूँगा – प्लीज कम हियर . “

 

 

शिक्षा अधिकारी – “वैरी गुड ! अब माना वो लड़की सड़क के इस पार आ गयी – बताओ की उसको वापस उस पार भेजने के लिए क्या कहोगे ? इंग्लिश में बताओ .”

 

छात्र – “सर ! ये तो बहुत आसान सवाल हुआ … मैं सड़क के उस पार जाऊँगा और बोलूँगा – प्लीज कम हियर . “

शिक्षा अधिकारी बेहोश !!

 

 

                                           funny short stories in hindi            कहानी – २ 

 

 

 

एक समय शराब का एक व्यसनी एक संत के पास गया और विनम्र स्वर में बोला, ‘गुरूदेव, मैं इस शराब के व्यसन से बहुत ही दुखी हो गया हूँ. इसकी वजह से मेरा घर बरबाद हो रहा है.
 मेरे बच्चे भूखे मर रहे हैं, किन्तु मैं शराब के बगैर नही रह पाता! मेरे घर की शांति नष्ट हो गयी है.  कृपया आप मुझे कोई सरल उपाय बताएँ, जिससे मैं अपने घर की शांति फिर से पा सकूँ . ‘ गुरूदेव ने कहा, ‘जब इस व्यसन से तुमको इतना नुकसान होता है, तो तुम इसे छोड़ क्यों नहीं देते ?’ व्यक्ति बोला, ‘पूज्यश्री, मैं शराब को छोड़ना चाहता हूं, पर यह ही मेरे खून में इस कदर समा गयी है कि मुझे छोड़ने का नाम ही नहीं ले रही है . ‘

गुरूदेव ने हँस कर कहा, ‘कल तुम फिर आना! मैं तुम्हें बता दूँगा कि शराब कैसे छोड़नी है ?’

 

दूसरे दिन निश्चित समय पर वह व्यक्ति महात्मा के पास गया.   उसे देख महात्मा झट से खड़े हुए और एक खम्भे को कस कर पकड़ लिया.  जब उस व्यक्ति ने महात्मा को इस दशा में देखा, तो कुछ समय तो वह मौन खड़ा रहा, पर जब काफी देर बाद भी महात्माजी ने खम्भे को नहीं छोड़ा, तो उससे रहा नहीं गया और पूछ बैठा, कि ‘गुरूदेव, आपने व्यर्थ इस खम्भे को क्यों पकड़ रखा है ?’ गुरूदेव बोले, ‘वत्स! मैंने इस खम्भे को नहीं पकड़ा है, यह खम्भा मेरे शरीर को पकड़े हुए है.

 

मैं चाहता हूँ कि यह मुझे छोड़ दे, किन्तु यह तो मुझे छोड़ ही नहीं रहा है . ‘ उस व्यक्ति को अचम्भा हुआ! वह  बोला, ‘गुरूदेव मैं शराब जरूर पीता हूँ, मगर मूर्ख नहीं हूँ .
आपने ही जानबूझ कर इस खम्भे को कस कर पकड़ रखा है.  यह तो निर्जिव है, यह आपको क्या पकड़ेगी यदि आप दृढ़-संकल्प कर लें, तो इसी वक्त इसको छोड़ सकते हैं.
गुरूदेव बोले, ‘नादान मनुष्य, यही बात तो मैं तुम्हें समझाना चाहता हूँ कि जिस तरह मुझे खम्भे ने नहीं बल्कि मैंने ही उसे पकड़ रखा था, उसी तरह इस शराब ने तुम्हें नहीं पकड़ा है, बल्कि सच तो यह है कि तुमने ही शराब को पकड़ रखा है .  तुम कह रहे थे कि यह शराब मुझे नहीं छोड़ रही है .

जबकि सत्य यह है कि तुम अपने मन में यह दृढ़ निश्चय कर लो कि मुझे इस व्यसन का त्याग अभी कर देना है, तो इसी वक्त तुम्हारी शराब पीने की आदत छूट जायेगी .

 

 

 

 

शरीर की हर क्रिया मन के द्वारा नियंत्रित होती है और और मन में जैसी इच्छा-शक्ति प्रबल होती है, वैसा ही कार्य सफल होता है  .  वह शराबी गुरू के इस अमृत-वचनों से इतना प्रभावित हुआ कि उसने उसी वक्त भविष्य में कभी शराब न पीने का दृढ़-संकलप किया .  उसके घर में खुशियाँ लौट आयीं और वह शांति से जीवन-यापन करने लगा.

 

 

 

इस तरह हमें शिक्षा मिलती है कि जीवन में कोई भी व्यसन ऐसा नहीं है, जिसे एक बार ग्रहण किये जाने के बाद छोड़ा ना जा सके . अगर मनुष्य चाहे तो बड़ी से बड़ी बुराई का त्याग कर सकता है .

 

                                                                           funny short stories in hindi
३- funny stories in hindi for class 7 :-  मेडिकल कॉलेज और इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्र साथ में पिकनिक मनाने वाटरफाल पर गए . वाटरफाल का पानी बहुत ठंडा था .

मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल ने इंजीनियरिंग कॉलेज के प्रिंसिपल से कहा – मेरे छात्र बहुत हिम्मती हैं .

इंजीनियरिंग कॉलेज के प्रिंसिपल ने कहा – कैसे ? सिद्ध करो ..

मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल ने कुछ छात्रो को बुलाया और आदेश दिया – जल्दी से ठन्डे पानी में जम्प लगाओ .

छात्रो ने आव देखा ना ताव और कूद गए …

मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल ने इंजीनियरिंग कॉलेज के प्रिंसिपल से कहा – देखा !! कितने हिम्मती हैं !

इंजीनियरिंग कॉलेज के प्रिंसिपल ने कहा – बस इतनी सी बात ! मैं दिखता हूँ मेरे छात्र कितने हिम्मती हैं ..

इंजीनियरिंग कॉलेज के प्रिंसिपल ने कुछ इंजीनियरिंग के छात्रो को बुलाया और आदेश दिया – जल्दी से ठन्डे पानी में जम्प लगाओ .

इंजीनियरिंग के छात्रो ने कहा – पगला गए हो बढ़उ !! इतने ठन्डे पानी में जम्प करे !! चल हट !!

इंजीनियरिंग कॉलेज के प्रिंसिपल ने कहा – देखा कितने हिम्मती हैं !!!
                                                                               funny short stories in hindi    
4- short funny stories :- बॉस (सेक्रेटरी से): तुम और मैं एक हफ्ते के लिए लंदन जा रहे हैं. ज़रूरी मीटिंग है,

सेक्रेटरी (पति से): ऑफिस के काम से मुझे बॉस के साथ एक हफ्ते के लिए लंदन जाना है. जरूरी मीटिंग है.

पति (अपनी गर्लफ्रेंड से, जो एक टीचर है): मेरी बीवी एक हफ्ते के लिए बाहर जा रही है. उसके जाते ही तुम घर आ जाना.

गर्लफ्रेंड (स्टूडेंट्स से): बच्चो, मैं एक हफ्ते के लिए बाहर जा रही हूं, इसलिए तुम्हारी एक हफ्ते की छुट्टी.

एक स्टूडेंट (अपने पिता से, जो कि बॉस है): डैड, मेरी एक हफ्ते की छुट्टी है. मैं घर आ रहा हूं, आप कहीं मत जाना.

बॉस (सेक्रेटरी से): मेरा बेटा आ रहा है. लंदन जाना कैंसल.

सेक्रेटरी (पति से): लंदन जाना कैंसल हो गया.

पति (गर्लफ्रेंड से, जो कि टीचर है): पत्नी नहीं जा रही. हमारा प्रोग्राम कैंसल.

टीचर (स्टूडेंट्स से): बच्चो, आपकी छुट्टियां कैंसल.

स्टूडेंट (पिता से, जो कि बॉस है): पापा, मैं नहीं आ सकता. छुट्टियां कैंसल हो गईं.

                                                              funny short stories in hindi
5- comedy stories in hindi :-  मोहन रेलवे गार्ड की भर्ती में गया और रिटेन इक्जाम पास करके इंटरव्यू राउंड में पहुच गया ..

इंटरव्यूवर – मानलो तुम स्टेशन के गार्ड हो और तुम देखते हो की दो ट्रेने  एक ही पटरी पर हैं और  तेज़ी से एक दुसरे की ओर बढ़ी जा रही हैं … तुमको पता है की अगर कुछ नहीं किया गया तो एक तेज़ टक्कर हो जायेगी …ऐसी स्थिति में  तुम क्या करोगे ?

मोहन – मैं लाल झंडा लहराऊंगा ..
इंटरव्यूवर – मानलो तुम्हारे पास लाल झंडा नहीं है. तब ?
मोहन – नो प्रॉब्लम … मैं हमेशा लाल रंग की चड्डी पहनता हु … तो .. मैं उसे लहरा सकता हु .. समझ रहे हैं ना सर ?
इंटरव्यूवर – पर रात का वक़्त हो तो ?
मोहन – नो प्रॉब्लम … मैं हमेशा लाल और हरे रंग का जलने वाला टोर्च अपने पास रखता हूँ … तो .. मैं उसे जला दूंगा ..
इंटरव्यूवर – अगर बारिश हो रही हो और टोर्च की सेल भींग गयी हो तो .
मोहन – ऐसी स्थिति में  सर .. .. मैं दौड़ के अपने भाई सोहन को बुला के लाऊंगा …
इंटरव्यूवर – क्यू वो क्या कर लेगा ?
मोहन – वो कर तो कुछ नहीं पायेगा …
इंटरव्यूवर – तो?
मोहन – मैं कहूँगा देख ले भाई देख ले !! ऐसा भयंकर ट्रेन एक्सीडेंट देखने का मौका फिर नहीं मिलेगा …

इंटरव्यूवर खड़ा होकर – भाग यहाँ से….
                                                                        funny short stories in hindi
6- comedy kahaniyan :- एक आदमी नकली नोट छपता था . एक दिन गलती से उसने पंद्रह रूपये की एक नोट छाप दी.. अब पंद्रह रूपये की नोट आती तो हैं नहीं ..
उसने बहुत सोचा – “शहर में तो सब समझदार लोग होते हैं . अगर ये नोट यहाँ चलाने गया तो मैं पकड़ा जाऊंगा. हाँ अगर किसी दूर दराज़ के गाँव में गया तो शायद ये चल जाए .. “

ये सोच कर वो बहुत  दूर बसे एक छोटे से गाँव में गया ..  उसने देखा की लोहार लोहे की धौकनी में काम कर रहा हैं ..    उसने लोहार से कहा – “अरे भाई ! मेरे एक नोट का छुट्टा करा दो .. “

ये कहके उसने पंद्रह रुपये का नोट आगे बढ़ा दिया …  लोहार ने अपना हाँथ पोंछा और नोट को पकड़ कर देखने लगा … साथ ही साथ उसने नोट छापने वाले को भी एक नज़र देखा ..
उस आदमी की तो हलक सुख गयी … उसे लगा  “लगता है लोहार ने पकड़ लिया …”
लोहार बोला – “भाई जी ! मेरे पास पंद्रह रूपये शायद ना हो .. मैं चौदह रूपये दे सकता हूँ “
नोट छापने वाले ने सोचा – “अरे चलो मेरा क्या जाता है .. चौदह ही सही”
उसने लोहार से कहा – “अब पंद्रह मिलते तो अच्छा होता .. पर लाईये चौदह ही दें दें ..”

लोहार अन्दर गया और बहार आके उसको पैसे पकड़ा दिए …

उस आदमी ने गिनना चाहा तो देखा – दो सात रूपये के नोट हैं …

बिना कुछ कहे वो वह से चला गया …

                                                                      funny short stories in hindi  
7- funny kahaniya :- एक बार एक एक बुज़ुर्ग आदमी ने देखा कि पप्पू घर के दरवाज़े पर लगी घंटी बजाने कि कोशिश कर रहा होता परन्तु उसका हाथ घंटी तक नहीं पहुँच पा रहा होता है, यह देख बुज़ुर्ग आदमी पप्पू के पास गया और उस से पूछा, “क्या हुआ बेटा?”

पप्पू: कुछ नहीं मुझे यह घंटी बजानी है पर मेरा हाथ नहीं पहुँच रहा तो क्या आप मेरे लिए ये घंटी बजा देंगे?

यह सुन बूढ़ा आदमी तुरंत हाँ कर देता है और घंटी बजा देता है, और घंटी बजाने के बाद पप्पू से पूछता है, “और बताओ बेटा क्या मै तुम्हारे लिए कुछ और कर सकता हूँ?”

यह सुन पप्पू बोला, “हाँ अब मेरे साथ भाग बुढ्ढे वरना तू भी पिटेगा अगर मकान का मालिक बाहर आ गया तो.”

मित्रों यह    funny short stories in hindi  कहानी आपको कैसी लगी जरुर बताएं और    funny short stories in hindi जैसी और भी कहानी के लिए इस ब्लॉग को लाइक , शेयर और सबस्क्राइब जरुर करें और इस तरह की और भी कहानी के लिए नीचे की लिंक पर क्लिक करें.

3- funny story in hindi

4- hindi kahaniya

About the author

Abhishek Pandey

Leave a Comment