You cannot copy content of this page
हास्य कहानिया

short story in hindi

mulla nasuriddin
mulla nasuriddin
Written by Hindibeststory

short story in hindi कतवारू गरीबी से तंग होकर कुछ पैसे कमाने के लिए पहली बार शहर आया . वह कुछ दूर पहुंचा तो देखा एक पंडित जी सड़क के किनारे बैठ के भविष्य बता रहे हैं . कतवारू ने सोचा चलो मैं भी दिखा लूँ . पंडित जी कतवारू को आते देख कर मन ही मन प्रसन्न होकर सोचे चलो इसको चुना लगाते है . कतवारू का हाँथ देख कर पंडित जी चिल्ला उठे – यजमान … राम राम राम !! शनि की महादशा में केतु की अन्तर्दशा ! राहु तिरछी निगाह से सूर्य को देख रहा है . और मंगल स्वग्रही होकर वक्री बनकर चल रहा है .. अरे अरे अरे !!! चन्द्रमा पर तो ग्रहण लगा हुआ है … और ये क्या … बुद्ध तो क्रुद्ध हो के बैठा है … राम ही बचाए आपको .. सूर्य की डिग्री तो बहुत मध्यम है साथ में शनि की साढ़े साती … च च च … और आपका मीन राशि , इस बरस है महा विनाशी हैं महा विनाशी … पंडित जी टेप रिकॉर्ड की तरह बजते रहे …

जितना भी उनको ज्योतिष का ज्ञान था या नहीं था .. सब कुछ उधेल कर रख दिए .. सोचा ये क्लाइंट तो जरूर फंसेगा .. कतवारू बेचारा परेशान होकर बोला – पंडित जी महाराज ! ऐसा ना कहे … कोई तो उपाय होगा .. दया करे .. कुछ कृपा करे .. बड़ा ही गरीब हूँ …पंडित जी – वैसे तो तुम्हारा कुछ हो नहीं सकता .. हाँ ग्यारह सौ एक रूपये निकालो .. एक पूजा करा देते हैं ..सब ठीक हो जाएगा . कतवारू बोला – पंडित जी महाराज ! भगवान की कसम मेरे पास ग्यारह सौ रूपये नहीं हैं पंडित जी (अपनी पालथी एडजस्ट करके ) – एक बार और हाँथ देना … (हाँथ देख कर ) .. अहा ! लगता हैं चन्द्रमा पर से ग्रहण उतर रहा हैं … एक काम करो पांच सौ एक रूपये निकालो .. एक पूजा करा देते हैं ..सब ठीक हो जाएगा .

कतवारू – पंडित जी अब आपसे क्या छुपाना मेरे पास पांच सौ रूपये नहीं हैं … पंडित जी को लगा क्लाइंट भाग ना जाए , इतना लालच ठीक नहीं . पंडित जी – एक बार और हाँथ देना ज़रा .. एक दो चीज़ छुट गयी है … (हाँथ देख कर ) .. लगता हैं सूर्य की डिग्री कुछ बढ़ गयी है और हाँ मीन राशि तो इस साल ठीक जाने वाला है … एक काम करो एक सौ एक रूपये निकालो .. एक पूजा करा देते हैं ..सब ठीक हो जाएगा . कतवारू ने फिर से वही व्यथा कह सुनाई . पंडित जी – हद्द है यजमान ! लाईये हाँथ लाईये .. (गुस्से से हाँथ देखकर ) … सब ठीक लग रहा है बस ये राहु केतु और शनि का लफड़ा है … चलो भाई … तुम भी क्या याद करोगे निकालो ग्यारह रूपये … एक पूजा करा देते हैं ..सब ठीक हो जाएगा . कतवारू (दयनीय मुंह बना के ) – पंडित जी महाराज ! भगवान् कसम मेरे पास ग्यारह रूपये भी नहीं हैं … पंडित जी आग बबूला हो उठे चिल्ला के बोला – अरे आदमी हो की पायजामा का नाडा ! लाओ हाँथ दो .. चलो छोड़ो (हाँथ झटक कर) … शनि का तो कुछ करना ही होगा … अब इससे कम क्या होगा … सवा रूपये निकालो … एक पूजा करा देते हैं ..सब ठीक हो जाएगा . कतवारू – भगवान् कसम मेरे सवा रूपये भी नहीं हैं …… पंडित जी – सवा रूपये भी नहीं हैं ?? कतवारू – नहीं … पंडित जी (अपना आसन सही करते है, पीछे जाके टेक ले लेते हैं … ) – जाओ वत्स जाओ … होने दो शनि का प्रवेश … जिस आदमी के पास सवा रूपये भी नहीं है मैं भी देखता हूँ उसका शनि क्या बीगाड लेता है….जाओ खुश रहो……

मित्रों आपको यह कहानी short story in hindi कैसी लगी जरुर बताएं और short story in hindi की तरह की और भी कहानियों के लिए ब्लॉग को लाइक , शेयर और सबस्क्राइब करें और दूसरी कहानी के लिये नीचे की लिंक पर क्लिक करें.

1-kichak vadh . कीचक वध

2-सन्यासी की सीख moral story

3-मकरध्वज की कथा

About the author

Hindibeststory

Leave a Comment