Category - hindi god story

hindi god story indian festivals

Vasant Panchami : आखिर क्यों मनाया जाता है यह त्यौहार, जाने सब...

Vasant Panchami प्रसिद्ध हिन्दू त्यौहार है. इस दिन विद्या की देवी मां सरस्वती की पूजा की जाती है. यह पूजा सम्पूर्ण भारतवर्ष में बड़े ही धूम-धाम से की जाती है.       भारत के साथ ही यह त्यौहार नेपाल, बांग्लादेश के पश्चिमी क्षेत्र और उन जगहों पर जहां हिन्दू रहते हैं वहाँ भी बहुत धूम...

hindi god story

Draupadi आखिर क्यों कहलाती हैं अग्निसुता जानिये पूरा रहस्य

Draupadi महाभारत ग्रंथ के अनुसार एक बार राजा द्रुपद ने कौरवो और पांडवों के गुरु द्रोणाचार्य का अपमान कर दिया था. गुरु द्रोणाचार्य इस अपमान को भूल नहीं पाए.       इसलिए जब पण्डवों और कौरवों ने शिक्षा समाप्ति के पश्चात गुरु द्रोणाचार्य से गुरु दक्षिणा माँगने को कहा तो उन्होंने उनसे...

hindi god story

Arjun Mahabharat : पढ़ें महावीर धनुर्धारी अर्जुन की पूरी कहानी

Arjun Mahabharat अर्जुन कुंती के पुत्र थे और इनके पिता का नाम पांडु था. भगवान् इंद्र के आशीर्वाद से उत्पन्न होने के कारण भगवन इंद्रा भी उनके पिता थे.     अर्जुन इंद्र के समान ही प्रतापी और पराक्रमी थे. पांडवों में सबसे अधिक युद्ध कुशल और वीर वही थे. महाभारत युद्ध में इस पक्ष का सबसे बड़ा...

hindi god story indian festivals

Holika: जानिये होलिका दहन की कथा और इतिहास हिंदी में जरुर पढ़ें

holika और होली त्योहार का मुख्य संबंध प्रहलाद से है. प्रहलाद विष्णु भक्त थे , लेकिन प्रहलाद का पिता हिरण्यकश्यप अपने आपको भगवान समझता था और प्रजा से भी यही उम्मीद करता था कि वह भी उसे ही पूजे और भगवान माने. ऐसा नहीं करने वाले को या तो मार दिया जाता था या कैद-खाने में डाल दिया जाता था.    ...

hindi god story

Mahabharat Katha ऐसी जानकारियां जिसे आपने नहीं सुनी होंगी पूरी...

mahabharat katha महाभारत की रचना महर्षि कृष्णद्वैपायन वेदव्यास ने की है, लेकिन इसका लेखन भगवान श्रीगणेश ने किया है.. महाभारत ग्रंथ में चंद्रवंश का वर्णन है…       mahabharat katha  में न्याय, शिक्षा, चिकित्सा, ज्योतिष, युद्धनीति, योगशास्त्र, अर्थशास्त्र, वास्तुशास्त्र, शिल्पशास्त्र...

hindi god story

भगवान Parshuram की कथा. कौन थे भगवान परशुराम पूरी कथा

parshuram मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम जिनका सादर नमन करते हों, उन शस्त्रधारी भगवान परशुराम की महिमा का वर्णन शब्दों की सीमा में संभव नहीं हो सकता है.       वे योग, वेद और नीति में निष्णात थे, तंत्रकर्म तथा ब्रह्मास्त्र समेत विभिन्न दिव्यास्त्रों के संचालन में पारंगत थे. यानी...