Hindi Kahani

प्रेरणा hindi kahani

लकडहारा शेख चिल्ली
लकडहारा शेख चिल्ली

प्रेरणा hindi kahani जीवन में कई बार ऐसे अवसर आते हैं , जब हालात बहुत बुरे होते हैं और हम सोचते हैं कि अब कुछ बदलाव करना उचित नहीं है और यह बदलाव सफल भी होगा या नहीं, इसकी कोई गारंटी नहीं है और यह सोचकर हम बैठ जाते हैं. उसका नतीजा यह होता है कि परिस्थितियाँ और भी विपरीत होती चली जाती हैं. फिर हम सोचते हैं कि शाययद हमें वह कर लेना चाहिए था. लेकिन ‘अब पछताए हो क्या जब चिड़िया चुग गयी खेत.’ इसी पर आधारित है आज की मेरी short stories in hindi प्रेरणा hindi kahani . तो चलिए सुनाता हूँ आपको एक kahani. एक लड़का सुबह सुबह मोर्निंग वाक पर जाता था. उसने ध्यान दिया हर रविवार को एक बूढी महिला तालाब के किनारे छोटे छोटे कछुओं की पीठ साफ़ किया कराती थी.

एक दिन उस लडके इसका कारण जानने के लिए उस महिला की पास गया और उनका अभिवादन कर बोला ” नमस्ते आंटी , मैं देखता हूँ कि आप हर रविवार को यहाँ आते हो और इन छोटे कछुओं की पीठ साफ़ करते हो. आप ऐसा क्यों करते हो ?” उस महिला ने उस लडके की तरफ देखा और कहा ‘ बेटा, ऐसा करने से मुझे बहुत शांति की अनुभूति होती है. क्योंकि इन कछुओं की पीठ पर जो कवच होता है, उस पर कचरा जम जाने से इनकी गर्मी पैदा करने की क्षमता कम हो जाती है और इससे इनके कवच कमजोर होने लगते हैं और इन्हें तैरने में समस्या होती है. इसीलिए मैं इनके कवच को साफ़ करती हूँ . ‘यह सुनकर लड़का बड़ा हैरान था. उसने तुरंत ही एक और प्रश्न किया ” बेशक आप बहुत अच्छा काम कर रहीं हैं. लेकिन आप यह सोचिये कि इस तरह के कितने कछुए हैं जो कि इनसे भी बुरी हालत में हैं. क्या आप सभी के लिए यह कर सकती हैं, नहीं…तो फिर आपके इस प्रयास से कितना परिवर्तन होगा.”

प्रेरणा hindi kahani
प्रेरणा hindi kahani

तब महिला ने कहा ” बेशक यह सत्य है कि इससे दुनिया में कोई बड़ा बदलाव नहीं आयेगा , लेकिन सोचो उस कछुए की जिंदगी मीन तो परिवर्तन आएगा न . तो क्यों ना हम छोटे से ही बदलाव शुरू करें. जिससे बाद में हमें यह ना सोचना पड़े कि हमें यह कर लेना चाहिए ” . महिला की इस बात से उस लडके को प्रेरणा मिली और अब वह भी कछुओं की पीठ साफ़ करने लगा और देखते ही देखते बहुत लोग इस कार्य में जुड़ गए . मित्रों मेरी यह hindi story प्रेरणा hindi kahani आपको कैसी लगी, जरुर बताएं और भी अन्य kahani in hindi के लिये इस ब्लॉग को घंटी दबाकर सबस्क्राइब कर लें और दूसरी kahaniya के लिए इस लिंक https://www.hindibeststory.com/tirskar-hindi-stories/पर क्लिक करें.

About the author

Hindibeststory

1 Comment

Leave a Comment