Bhakti Story

jivdani temple

Maa Jivdani Mandir ke Rahasy

jivdani temple  हेल्लो मित्रों मेरा नाम रिषभ है और मैं महाराष्ट्र के मुंबई के बोरीवली में रहता हूँ. आज गाँव से मेरे कुछ रिश्तेदार मुंबई मेरे घर आये हुए हैं तो मैंने सोचा क्यों न jivdani mata  का दर्शन ही कर लिया जाये. मैंने यह बातें जब घर में बतायी तो हर कोई उत्साहित हो गया.

jivdani mata photo

Maa Jivdani Temple Virar ki Yatra

jivdani mata photo

अब हम  jivdani temple जाने का प्लान बनाने लगे. पहले तो हमने सोचा कि ओला बुक करते हैं और सड़क मार्ग से हायवे होते हुए चलते हैं. लेकिन फिर यह प्लान मेरे पिताजी ने कैंसल कर दिया. उन्होंने कहा कि नहीं हम mumbai local train से ही चलेंगे और वैसे भी यह दोपहर का टाइम है सो भीड़ भी नहीं होगी और हम समय से घर भी आ जायेंगे. यह बात फाइनल हो गयी. हम सब फ़टाफ़ट तैयार हो गए और बोरीवली टिकट खिड़की पर पहुंचे और विरार रिटर्न की ७ टिकट निकाली.

अब तो काफी सुविधा हो गयी है टिकट निकालने की जैसे स्मार्ट कार्ड, पैसे डायरेक्ट डालकर, मोबाइल से मैंने रिश्तेदार को बताया. प्लेटफार्म पर विरार की ट्रेन लगी हुई थी जो कि बोरीवली से बन कर जा रही थी. दोपहर का समय होने के कारण ट्रेन में भीड़ काफी कम थी. कुछ समय बाद ट्रेन छूटी और दहिसर, मिरारोड, भायंदर,नायगाँव,vasai road , nala sopara होते हुए विरार पहुंची.

दोस्तों आप पढ़ रहे हैं  jivdani temple 

फिर हमने स्टेशन से दो रिक्शा किया और हम jivdani mata mandir पहुंच गए. विरार से jivdani mandir का किराया १० रुपये पर सीट है. पहले हमने jivdani mandir जाने के लिए jivdani temple lift का माध्यम सोचा, लेकिन फिर डिसाइड हुआ कि सीढियों से ही चलेंगे. लगभग १३०० सीढियां चढाने के बाद हम jivdani mandir पहुंचे. प्रशासन की तरफ से काफी सुरक्षा और सुविधा दी गयी है. मात्र १० रुपये  में भरपेट भोजन की व्यवस्था भी है.

हम jivdani पहुंचे, फिर दर्शन  के बाद प्रांगण में बैठे और jivdani mata से मिन्नतें कीं. कहा जाता है कि इस मंदिर में jivdani mata की प्राण-प्रतिष्ठा पांडवों ने की है. इस  कथा को पढ़ने के लिए इस लिंक Maa Jivdani Mandir ke Rahasy पर क्लिक  करें. पूजा पाठ के  हम नीचे आये. नीचे आते  समय  हमारे  पैर बहुत तेजी से बढ़ रहे थे.  फिर हमने थोडा नाश्ता किया. प्रसाद लिए और चर्चगेट की ट्रेन से  वापस बोरीवली आ गए. तो मित्रों हमारी यह यात्रा jivdani temple कैसी रही अवश्य बताएं.

About the author

Hindibeststory

Leave a Comment