hindi jokes very funny

jokes in hindi for whatsapp

jokes in hindi for whatsapp
Written by Abhishek Pandey

jokes in hindi for whatsapp 

 

1- ब्रांडी

एक आदमी सड़क पर बेहोश हो गया . उसके चारो तरफ भीड़ लग गयी. हर कोई उसे होश में लाने की सलाह देने लगा .

एक सज्जन बोले : – इसके मुंह पर पानी के छींटे मारो .

दूसरा कोई बोला :- अरे इसे पंखा करो .

तभी एक बेवडा वहाँ पहुंचा और बोला :- इसे ब्रांडी दे दो .

तभी किसी ने कहा :- इसे अस्पताल ले जाओ .

तभी बेवडा फिर बोला :- इसे ब्रांडी दे दो .

कोई उसमें से अरे एम्बुलेंन्स बुलाओ .

तभी वह बेहोश आदमी उठकर बैठ गया और जोर से चिल्लाया आप लोग चुप हो जाइए और उस भले आदमी की बात तो सुन लीजिये जिसने ब्रांडी की सलाह दी ……फिर क्या दे दना दन…पब्लिक उसे मार कर फिर बेहोश कर दी.

 

 

2- एक साहब सुबह आफिस के लिए बस में सवार हुए .

कंडक्टर :- रात को ठीक – ठाक घर पहुँच गए थे ?

साहब – क्यों , क्या हुआ था रात को ?

कंडक्टर :- कल आप पीकर टुन्न थे .

साहब :- लेकिन तुम्हे कैसे पता ?

कंडक्टर :- रात को बस में एक मैडम आई थीं और आपने उन्हें सीट आफर की थी .

साहब :- तो , यह तो अच्छी बात है ना .

कंडक्टर :- लेकिन उस बस में सिर्फ आप दो ही पैसेंजर थे .

 

4- दारु एकम दारु – महफ़िल हुई चालू

दारू दुनी गिलास – मजा आएगा खास

दारू तिया वाइन – टेस्ट एकदम फाइन

दारू चौके बियर – डालो नेक्स्ट गियर

दारु पंजे राम –     भूलो सारे गम

दारु छक्के ब्रांडी – खाओ चिकन हांडी

दारू सत्ते  व्हिस्की – काकटेल है रिस्की

दारू अट्ठे बेवडा – लाओ सेब चिवड़ा

दारु नम्में खम्बा – ज्यादा हो गयी , थांबा

दारू दहम चस्का – नेक्स्ट पार्टी किसका .

 

५- एक शराबी ने दोस्तों की दावत का प्रोग्राम बनाया . फिर अपने ही घर से रात को बकरा चोरी किया . रात को दोस्तों संग खूब पार्टी एन्जॉय किया .  सुबह घर पहुंचा तो बकरा घर में ही था . यह देख उसने पत्नी से पूछा : यह बकरा कहाँ से आया ?

बीबी बोली – बकरे को मारो गोली . पहले यह बताओ रात को तुम चोरों की तरह कुत्ते को कहाँ ले गए थे ?

 

मित्रों यह jokes in hindi for whatsapp हंसते हँसते लोट पोट कर देने वाले चुटकुले    आपको अच्छे लगे हो   शेयर कीजिये और दूसरी हंसते हँसते लोट पोट कर देने वाले चुटकुले  की तरह की पोस्ट के लिए नीचे की लिंक पर क्लिक करें.

 

1- akbar birbal jokes

2-akbar birbal ki kahani 

About the author

Abhishek Pandey

Leave a Comment