हास्य कहानिया

लकडहारा शेख चिल्ली

लकडहारा शेख चिल्ली
लकडहारा शेख चिल्ली

लकडहारा शेख चिल्ली एक बार shekh chilli जंगल में लकडियाँ काटने गये. उन्होंने एक बड़ा पेड़ देखा और उस पेड़ की लकडियाँ काटने के लिए पेड़ पर चढ़ गए .आप तो जानते ही हैं shaikh chilli जी की सोच अकल्पनीय होती है. shekh chilli लकडियाँ काटनी शुरू कीं और साथ ही उनके ख्याली पुलाव भी पकने लगे.

shaikh chilli ने सोचा कि इस जंगल में बहुत ढेर सारी लकड़ियाँ हैं . मैं यहाँ से खूब सारी लकडियाँ काटूँगा और उसको बाज़ार में बेचूंगा और इससे मुझे बहुत अधिक कमाई होगी. इस तरह से मैं बहुत ही जल्द अमीर बन जाऊँगा और उसके बाद लकड़ी को काटने के लिए ढेर सारे नौकर रख लूंगा. उसके एक फर्नीचर की बहुत अच्छी दूकान खोलूंगा और यहाँ भी ढेर सारे नौकर रख लूंगा. कुछ ही दिनों मेरे पार ढेर सारे नौकर चाकर, बड़ा महल और बड़ी दूकान हो जायेगी. मैं नगर का सबसे अमीर शख्स बन जाउंगा.

लकडहारा शेख चिल्ली
लकडहारा शेख चिल्ली

यह देखकर नगर का बादशाह खुद ही अपनी राजकुमारी का निकाह करने के लिए मेरे पास आयेगा. शादी के बाद हम घुमने जायेंगे और एक सुन्दर से खुबसूरत बगीचे में राजकुमारी अपना हाथ मेरी तरफ बढ़ाएंगी…..ख्वाब में डूबे ज़नाब shekh chilli पेड़ की दाल को ही राजकुमारी का समझ लिया और ख्वाब में बहकते हुए राजकुमारी का हाथ पकड़ने के लिए आगे बढे और धडाम से नीचे गिर पड़े . उंचाई से गिरने कारण उनके कमर में चोट लग गयी और उसके साथ ही shekh chilli के ख्वाब भी चकनाचूर हो गए. मित्रों मेरी यह shekh chilli की hindi kahani लकडहारा शेख चिल्ली कैसी लगी, अवश्य ही बताएं और दूसरी hindi stories के लिए इस लिंक https://www.hindibeststory.com/pari-ki-kahani-in-hindi/पर क्लिक करें.

About the author

Hindibeststory

Leave a Comment