Bhakti Story

lord shiva

maha shivaratri/ shivratri
shiva image
lord shiva maha shivratri हिन्दुओं का बहुत ही महत्वपूर्ण त्यौहार है. इसे पुरे ही भारत में मनाया जाता है. पुरे साल में कुल १२ shivratri आती है , उनमें maha shivaratri का बहुत ही महत्व है. कहा जाता है कि इस दिन जो भी भक्त पूर्ण भक्ति भाव से lord shiva की पूजा करता है , उसे पुरे एक साल पूजा करने का फल प्राप्त होता है.

यह भगवान् शिव के पूजन का सबसे बड़ा पर्व भी है. फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी को maha shivaratri/ shivratri पर्व मनाया जाता है. माना जाता है कि सृष्टि के प्रारंभ में इसी दिन मध्यरात्रि को lord शंकर का ब्रह्मा से रुद्र के रूप में अवतरण हुआ था.

महाप्रलय की बेला में maha shivaratri/ shivratri के दिन प्रदोष के समय lord shiva ब्रह्माण्ड को अपने तीसरे नेत्र की प्रचंड ज्वाला से भस्म कर देते हैं . इसी लिए इसे maha shivaratri/ shivratri कहा जाता है. lord shankar भूत प्रेत , पिशाचों से घिरे रहते थे . उनका रूप बहुत ही अजीब है. शरीर पर भस्म लगाये, सर्प की माला पहने , कंठ में विष, जटाओं में मां गंगा का वेग, चन्द्रमा को धारण करने वाले, माथे में प्रचंड ज्वाला lord shankar की पहचान है.

कहा जाता है कि जो लोग इस दिन परम सिद्धिदायक उस महान स्वरूप की उपासना करता है, वह परम भाग्यशाली होता है.
maha shivaratri/ shivratri के दिन भक्त shiv mandir में जाकर lord shiva को बेल पत्र , दूध, धतूरा, फूल आदि चढ़ाकर शिव की पूजा करते है. साथ ही इस दिन उपवास और रात्री जागरण भी किया जाता है.

माना जाता है कि maha shivaratri/ shivratri के दिन lord shiva का विवाह हुआ था . इसलिए रात्री में शिव बारात निकाली जाती है. इस त्यौहार को प्रत्येक हिन्दू बड़े ही धार्मिक भक्ति भाव से मनाता है. इस त्यौहार का अर्थ है काम ,क्रोध , मद , लोभ आदि पांच विकारों को त्याग कर अज्ञान रूपी निद्रा में सो जाने से खुद को बचाये रखना . मित्रों मेरी यह bhakti story lord shiva आपको कैसी लगी , अवश्य ही बताएं और भी अन्य bhakti story के लिए ब्लॉग को सबस्क्राइब कर लें और अन्य bhakti story के लिए इस लिंक https://www.hindibeststory.com/ashwathama-story-history-of-ashwathama/ पर क्लिक करें.

About the author

Hindibeststory

Leave a Comment