Uncategorized

makar sankranti साल का पहला त्यौहार

मकर संक्रांति साल का पहला त्यौहार

makar sankranti साल का पहला त्यौहार ख़ुशी और समृद्धि का प्रतीक makar sankranti त्यौहार सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने पर मनाया जाता है. भारत के विभिन्न त्योहारों में से यह बहुत ही महत्वपूर्ण त्यौहार है. यह अंग्रेजी कैलेण्डर के हिसाब से साल का पहला त्यौहार होता है. इस त्यौहार में खासकर प्रकृति की पूजा होती है.

makar sankranti साल का पहला त्यौहार
makar sankranti साल का पहला त्यौहार

makar sankranti भारत के अलग – अलग राज्यों में अलग – अलग नामों से मनाया जाता है. उत्तर भारत में मकर संक्रांति या फिर खिचड़ी, पंजाब में लोहिडी, गुजरात और राजस्थान में इसे उत्तरायण पर्व, आंध्रप्रदेश में संक्रांति, तमिलनाडु में पोंगल और असम में बिहू नाम से मनाया जाता है. पश्चिम बंगाल में इस दिन हुगली नदी पर गंगा सागर मेले का आयोजन किया जाता है, जिसमें बहुत अधिक श्रद्धालु स्नान के लिए आते हैं. गंगासागर के स्नान का बहुत महत्व है, इसीलिए कहा गया है “सब तीरथ बार बार , गंगासागर एक बार “.

महाराष्ट्र में इस दिन दिल गुड़ खाया जाता है और लोग एक दुसरे को तिल गुड़ देते हुए कहती हैं ” तिल गुड़ घ्या..गोड गोड बोला “…….इस दिन पतंग उड़ाने की भी परम्परा है और यह ज्यादातर राजस्थान और गुजरात में प्रचिलित है. उत्तर भारत में लोग इस दिन सुबह जल्द उठकर स्नान आदि करके मंदिरों में दर्शन करते है या फिर घर पर ही भगवान से सुख और शान्ति की कामना करते है और उसके बाद अपने सी बड़ों का आशीर्वाद लेकर गुड़ और तिल के बने लड्डू को खाकर इस त्यौहार की शुरुआत करते है.

sankranti में खिचड़ी का बहुत ही महत्व है. भगवान सूर्य को खिचड़ी का भोग लगाया जाता है. इसी दिन से कुम्भ का पहला स्नान शुरू होता है. यह त्यौहार पूर्ण रूप से प्रकृति को समर्पित है. इस दिन गुड़, तेल, कम्बल, छाता आदि का दान देना बहुत फलदायी होता है. इस दिन सूर्य उत्तर की ओर गमन करता है. कहते हैं कि जिन लोगों की मृत्यु उत्तरायण में होती है उन्हें कृष्ण धाम प्राप्त होता है. मित्रों यह कथा मकर संक्रांति साल का पहला त्यौहार आपको कैसी लगी अवश्य ही बताये और आप लोगों को happy makar sankranti . मित्रों अन्य hindi katha के लिए इस लिंक https://www.hindibeststory.com/holi-kab-kyu-kaise-manai-jati-hai/ पर क्लिक करें.

About the author

Abhishek Pandey

Leave a Comment