hindi funny stories

mulla nasaruddin ke chutkule

mulla nasaruddin ke chutkule
Written by Abhishek Pandey

mulla nasaruddin ke chutkule एक दिन मुल्ला नसरुद्दीन अपने गधे पर बैठकर किसी दूसरे शहर से अपने गाँव आया. लोगों ने उसे रोककर कहा – “मुल्ला, तुम अपने गधे पर सामने पीठ करके क्यों बैठे हो ?”  mulla nasaruddin  ने कहा – “मैं यह जानता हूँ कि मैं कहाँ जा रहा हूँ लेकिन मैं यह देखना चाहता हूँ कि मैं कहाँ से आ रहा हूँ.

 

 

उसी शाम मुल्ला रसोई में कुछ बना रहा था. वह अपने पड़ोसी के पास गया और उससे एक बरतन माँगा और वादा किया कि अगली सुबह उसे वह बरतन लौटा देगा. अगले दिन  mulla nasaruddin   पड़ोसी के घर बरतन लौटाने के लिए गया. पडोसी ने  mulla nasruddin  से अपना बरतन ले लिया और देखा कि उसके बरतन के भीतर वैसा ही एक छोटा बरतन रखा हुआ था. पड़ोसी ने मुल्ला से पूछा – “मुल्ला! यह छोटा बरतन किसलिए ?” मुल्ला ने कहा – “तुम्हारे बरतन ने रात को इस बच्चे बरतन को जन्म दिया इसलिए मैं तुम्हें दोनों वापस कर रहा हूँ.”

 

 

 

पड़ोसी को यह सुनकर बहुत ख़ुशी हुई और उसने वे दोनों बरतन मुल्ला से ले लिए. अगले ही दिन मुल्ला दोबारा पड़ोसी के घर गया और उससे पहलेवाले बरतन से भी बड़ा बरतन माँगा. पडोसी ने ख़ुशी-ख़ुशी उसे बड़ा बरतन दे दिया और अगले दिन का इंतज़ार करने लगा.
एक हफ्ता गुज़र गया लेकिन मुल्ला बरतन वापस करने नहीं आया.

 

 

 

मुल्ला और पडोसी बाज़ार में खरीदारी करते टकरा गए. पडोसी ने मुल्ला से पूछा – “मुल्ला! मेरा बरतन कहाँ है?” मुल्ला ने कहा – “वो तो मर गया!” पडोसी ने हैरत से पूछा – “ऐसा कैसे हो सकता है? बरतन भी कभी मरते हैं!” मुल्ला बोला – “क्यों भाई, अगर बरतन जन्म दे सकते हैं तो मर क्यों नहीं सकते ?”

 

 

 

मित्रों यह कहानी mulla nasaruddin ke chutkule आपको कैसी लगी जरुर बताएं  और mulla nasaruddin ke chutkule की तरह की कहानी के  लिए    इस ब्लॉग को लाइक , शेयर और सबस्क्राइब जरुर करें और दूसरी कहानी के लिए नीचे की लिंक पर क्लिक करें .

1-narendra modi quotes/narendra modi books

2-कितने अंधे akbar birbal story

About the author

Abhishek Pandey

Leave a Comment