Pari Story in Hindi Written / परियों की कहानी  / Pari Story in Hindi Pdf

Pari Story in Hindi Written / परियों की कहानी / Pari Story in Hindi Pdf

 

 

Pari Story in Hindi Written एक सुन्दर और चुलबुली लड़की थी कोमल।  वह पढ़ने में बहुत ही अच्छी थी और साथ ही साथ दुसरे कार्यों को भी बड़े ही उत्साह के साथ करती थी।

 

 

 

यही उसे स्कूल की दूसरी  लड़कियों से अलग बनाता था। एक दिन क्लासटीचर मैडम ने सभी बच्चों को संबोधित करते हुए कहा, ” हर किसी का कुछ ना कुछ सपना होता है।  जीवन का कोई ना कोई लक्ष्य होता है।  उसे पूरा करने के लिए हमें अपनी संभावनाओं और क्षमता की जांच करते रहना चाहिए। ”

 

 

 

Pari Short Story in Hindi परियों की कहानी हिन्दी में 

 

 

 

 

सभी बच्चे बड़े ही ध्यान से उनकी बातों को सुन रहे थे।  फिर उन्होंने कहा, ” हमें अपने सपनों को पूरा करने के लिए कोई शोर्टकट नहीं अपनाना चाहिए।  हमेशा ही सही रास्तों को चुनना चाहिए।  सिर्फ अंकों का अधिक आना ही आपको सफल नहीं बनाता।  अपने जीवन में ज्ञान, सोच, तर्क और सपने को भी रखना भी जरुर्री होता है और स्वप्न भी ऐसा हो जिसमें आपके साथ – साथ । ”

 

 

 

कोमल ने हाथ उठाकर पूछा, ” मैडम , मेरे तो कई सारे सपने हैं।  क्या मेरे सभी सपने पूरे हो सकते हैं?’’  ‘‘उन में से कोई एक सपना बताओ?’’ क्लासटीचर मैडम  ने पूछा।

 

 

 

तब कोमल ने कुछ देर सोचने की बाद बोला, ” मैं अपने आप को स्वर्ग की परी के रूप में देखना चाहती हूं। ’’ ‘‘ क्या किसी और भी बच्चे का यह सपना है?’’ क्लास टीचर मैडम  ने पूछा।

 

 

 

Fairy Tales Short Stories in Hindi To Read

 

 

 

कई सारे बच्चों ने हाथ ऊपर किया।  मैडम ने  मुसकराते हुए कहा, ‘‘आप लोगों को क्या लगता है कि कुछ महीनों में ही आप का यह सपना पूरा हो सकता है?’’ यह सुन कर वहां शांति छा गई।

 

 

 

बच्चे एक दूसरे  का मुंह देखने लगे। कुछ बच्चे तो कोमल की तरफ ऐसे देखने लगे कि उसने बड़ा बेकार सा प्रश्न किया है। कोमल कुछ देर बाद बोली, ” मैडम जी , मैं अपना यह सपना पूरा करने की कोशिश जरूर करूंगी। ’’

 

 

” इस बच्ची के लिए ताली बजाओ, क्योंकि इसने प्रयास करने का साहस दिखाया।  हम इसके प्रयास को देखने का इंतजार करेंगे। ’’ मैडम ने कहा।

 

 

 

उसके बाद मैडम चली गयी, लेकिन कुछ बच्चे कोमल का मजाक बनाने लगे। अब कोमल ने चुनौती तो स्वीकार कर ली थी, लेकिन उसे यह पता नहीं था कि इसे पूरा करने के लिए अब क्या किया जाए ?

 

 

 

उसके दिमाग में कई सारे प्रश्न चल रहे थे।  छुट्टी होने के बाद वह घर लौटी। अन्य दिनों की तरह उस ने शाम को एक गिलास दूध पीया, लेकिन खेलने नहीं गई।  वह मम्मी के बगल में जा कर बैठ गई।

 

 

pari-story-in-hindi-pdf

 

 

 

मम्मी ने उसे प्यार करते हुए पूछा, ‘‘क्या बात है, मेरी नन्ही परी ? इतनी उदास क्यों हो ? ” इसपर उसने पूरी बात अपनी माँ को बता दी।  इसपर उसकी माँ ने कहा , ” तुम बहादुर बच्ची हो, इसी लिए तुम ने यह चुनौती स्वीकार की,’’

 

 

‘‘लेकिन मम्मी, अब मैं अपने इस सपने को पूरा करने के लिए क्या करूं?’’ कोमल  ने पूछा. ‘‘अपनी आंखें बंद करो और कल्पना करो कि तुम एक परी हो,’’ माँ  ने कहा.

 

 

 

कोमल  ने अपनी आंखें बंद कीं और अपने सपने के बारे में सोचने लगी।  ‘‘अब इस कागज पर चित्र द्वारा या लिख कर अपने मन में चल रही बातों को लिखो,’’ कह कर उसकी माँ  ने कोमल  को एक पैंसिल और चार्ट पेपर दिए।

 

 

कुछ ही मिनटों में कोमल  ने एक सुंदर सा चित्र बना दिया।  वह चित्र उसने अपनी माँ  को दिखाया। ” वाह, बहुत सुंदर,’’ माँ  बोलीं।  कोमल  ने एक सुंदर सा बगीचा बनाया था, जिस में कई तरह के पेड़ पौधे, फूल, तितलियां, ड्रैगनफ्लाइ, चिडि़या, खरगोश, बतख, पंडुक बने हुए थे और इन के बीच में सितारों से सजी गाउन पहन कर कोमल  खड़ी थी।  उस के दो  सुंदर पंख भी थे।

 

 

तभी कोमल  के पापा भी ऑफिस  से आ गए।  उन्होंने कोमल  के स्कूल के बारे में सारी बातें ध्यान से सुनीं। ‘‘तुम बिलकुल सही रास्ते पर हो,’’ पापा ने कहा।

 

 

 

‘‘सब से पहले तुम्हारा एक सपना होना चाहिए।  फिर उस से संबंधित चीजों को कागज पर बना लेना चाहिए।  इस के बाद सपने को पूरा करने के लिए योजना बना कर उस पर अमल करना चाहिए और फिर हम उसे अवश्य ही पूरा कर सकते हैं ” उसके पापा ने कहा।

 

 

 

कोमल  हैरानी से पापा की ओर देख रही थी. ‘‘तुम हैरान क्यों हो रही हो?’’ पापा ने मुसकराते हुए पूछा। ‘‘हम पहले पौधे लगाएंगे. उन के बड़े होने पर चिडि़यां और तितलियां अपने आप आ जाएंगी,’’ पापा ने कहा. ‘‘लेकिन बतख, खरगोश, पंडुक और पंखों वाली परी का क्या होगा?’’ कोमल ने पूछा।

 

 

 

Jal Pari Story in Hindi

 

 

 

यह सुन कर कोमल  के पापा मम्मी जोर जोर से हंसने लगे। ‘चिंता मत करो,’’ पापा ने कहा, ‘‘पहले जो है उस से तो शुरुआत करो। ’’ कोमल  ने पापा मम्मी की सहायता से अपने घर का एक भाग इस ‘ड्रीम प्रोजैक्ट’ के लिए चुन लिया।

 

 

 

pari-story-in-hindi-written

 

 

 

मम्मी ने गुलाब, अड़हुल, चमेली, बैगनवेलिया, तुलसी आदि पौधे बगीचे के लिए मंगवा लिए। पापा कुछ गेंदा के बीज ले आए।  कोमल ने अपने नए प्रोजैक्ट पर काम शुरू कर दिया, जिसे उस ने गुप्त रखा था।

 

 

 

पापा मम्मी ने उसे यह सिखा दिया कि बगीचे का ध्यान कैसे रखना है। स्कूल से आते ही वह अपने पौधों की ओर भागती।  वह सूरज डूबने तक वहीं रहती, उन में पानी देती और उन का ध्यान रखती।

 

 

 

 

पौधे तेजी से बढ़ने लगे।  कुछ ही महीनों में उस का बगीचा हराभरा हो गया।  वह सुंदर, सुगंधित फूलों से भर गया।  जल्दी ही वहां तितलियां, ड्रैगनफ्लाइ और चिडि़यां आने लगे।

 

 

 

वादे के मुताबिक पापा बतख, खरगोश और पंडुक खरीद कर ले आए।  मम्मी ने एक उजली साड़ी को सिल कर गाउन बनाया।  ‘परी’ दिखने के लिए उस में दो छोटे  छोटे पंख भी लगा दिए।

 

 

 

जादुई लाल परी की कहानी हिंदी में

 

 

 

एक दिन कोमल  ने  क्लासटीचर मैडम  से कहा कि, ” वह सभी को अपना सपना दिखाने के लिए तैयार है। ”  दूसरे दिन कोमल के दोस्त और टीचर उस के घर पहुंच गए।

 

 

 

वहां का दृश्य देख कर सभी हैरान थे।  वहां का पूरा बगीचा स्वर्ग की तरह दिख रहा था।  रंगबिरंगी तितलियां फूलों के ऊपर उड़ रही थीं। मैना और दूसरे पक्षी अड़हुल और बैगनवेलिया के आसपास उड़ रहे थे।

 

 

नजदीक के पीपल के पेड़ से तोते के गाने की आवाज आ रही थी।  बतख इधर से उधर घूम रहा थी।  खरगोश और पंडुक से बगीचे की सुंदरता और अधिक बढ़ गई थी।

 

 

वहां गिलहरियां भी दौड़भाग रही थीं. ‘‘बच्चो, तुम इसी तरह अपने सपनों को पूरा कर सकते हो,’’ मैडम ने कोमल की प्रशंसा करते हुए कहा।

 

 

 

” कोमल  के ‘परी’ बनने का सपना पूरा हो गया है।  साथ ही साथ उस के सपने ने एक ऐसी दुनिया भी बना दी, जहां दूसरे जीवजंतु भी प्यार और भाईचारा से रह सकें।  याद रखना, तुम्हारे सपने तुम्हारे साथ साथ दूसरों के जीवन में भी खुशियां ला सकते हैं,’’  मैडम  ने कहा. सभी ने कोमल  के लिए तालियां बजाईं।

 

 

 

 

२- Pari lok Ki Kahani in Hindi –   कुछ सैनिक राज्य के कार्य हेतु राज्य से बाहर गए थे।  उनमें से एक सैनिक ने छुट्टी की अर्जी दाखिल की।  उसे छुट्टी मिल गई। उसने अपने साथी सैनिकों से विदा लिया और अपने घर की तरफ चल पड़ा।

 

 

 

तभी रास्ते में एक भयानक तूफान आया और उस तूफान की वजह से वह रास्ता भटक गया। तुफान समाप्त हुआ तो वह  फिर चलने लगा और चलते चलते उसे बहुत भूख लग गई थी।  वह  थक चुका था।

 

 

 

कुछ दूर चलने के बाद उसे उसे एक महल दिखाई दिया, लेकिन उस महल में कोई नहीं था।  वह महल में प्रवेश कर गया और अपने घोड़े को अस्तबल में बांधा और उसे  चारा डाल दिया और फिर वह महल के अंदर गया।

 

 

Pari Story in Hindi Written in Short

 

 

 

उसने देखा की टेबल पर बहुत ही स्वादिष्ट भोजन रखे गए थे। सैनिक को बहुत तेज भूख लगी थी। उसने कुछ नहीं सोचा और सीधा भोजन करने में जुट गया।

 

 

 

 

वह भोजन कर ही रहा था कि वहां पर एक शेर आया।  शेर को देखकर सैनिक  डर गया।  जब शेर ने इंसानी आवाज ने कहा डरो मत मैं एक राजकुमारी और मुझे कुछ जादूगरों ने अपने शक्ति से मुझे शेर  बना दिया है तो सैनिक को जैसे विश्वास ही नहीं हुआ।

 

 

 

Pari Story in Hindi Written Short

 

 

 

तब शेर ने एक तस्वीर दिखाई  और बोला देखो, ” वह मैं हूं।  ” वह  एक खूबसूरत राजकुमारी की तस्वीर थी।  उसके बाद शेर ने कहा, ” अगर तुम एक रात के लिए यहां पर ठहरो तो मेरा यह श्राप  टूट जाएगा और मैं तुमसे शादी करूंगी।  ”

 

 

 

पहले तो सैनिक सब को कुछ समझ ही नहीं आया , फिर वह मान गया और उसके बाद शेर वहां  से चला गया।  राजकुमार थका हुआ था और उसने भोजन भी कर लिया था इसलिए उसे गहरी नींद आई।

 

 

 

भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की कथा। कुबेर का अहंकार।

 

 

 

वह सो गया और सुबह जब  उसकी नींद खुली तो उसने देखा एक खूबसूरत राजकुमारी उसके सामने खड़ी थी।  राजकुमार ने  उसका धन्यवाद किया और कहा, ” शर्त  के अनुसार मैं  शादी के लिए तैयार हूं।  ”

 

 

 

सैनिक ने उसके साथ विवाह कर लिया।  कुछ दिन बाद सैनिक बोला, ” मुझे अपने मां बाप से मिलने अपने राज्य जाना होगा लेकिन सबसे बड़ी बात है कि मैं अपने राज्य का पता भूल चुका हूं।  ”

 

 

 

तब राजकुमारी ने एक जादुई आईना निकाला और सैनिक से राज्यय का नाम पूछा।  सैनिक ने राज्य का नाम बताया।   जादुई आईना ने राज्य के बारे में सब कुछ बता दिया।

 

 

 

उसके बाद  सैनिक जाने को तैयार हुआ तब राजकुमारी ने उसे बीजों का एक थैला दिया और उससे कहा, ” तुम कुछ – कुछ दूरी पर एक बीज  गिराते जाना इससे इस बहुत बड़े पेड़ उग जाएंगे, जिसमें  फल लगे रहेंगे और उसके चारों तरफ पक्षी गाना गायेंगे।

 

 

 

सैनिक ने ऐसा ही किया।  चलते – चलते उसे रास्ते में तीन आदमी कुछ अजीब से खेल खेलते हुए दिखाई दिए और वहीँ बगल में बिना आग से ही हांडी में हलवा पक रहा था।

 

 

 

उसे बड़ा ही आश्चर्य हुआ।  उसने उन आदमियों से पूछा, ” यह हलवा बिना आग से ही कैसे पाक रहा है ? ” इसपर एक आदमी ने घमंड से बोला, ” यह जादू है।  ”

 

 

 

तब सैनिक बोला, ” मेरे पास भी एक जादुई बीज है।  ”  उसने यह कहकर वहां एक जादुई बीज गिरा दिया।  जिससे तुरंत वहां पर पेड़ उग गया और उसपर फल भी लगे हुए थे और उसके चारो तरफ पक्षी गा रहे थे।

 

 

 

Pari Story in Hindi Written

 

 

 

तीनो जादूगरों ने  आपस में कहा, ” यह पेड़ों का बीज राजकुमारी के पास था जिसे हमने शेर बना दिया था।  सैनिक ने उसे फिर से राजकुमारी बना दिया है।  ”

 

 

 

इससे क्रोधित होकर उन्होंने उस सैनिक को श्राप दे दिया कि वह  6 महीने तक लगातार सोए।   उनका श्राप सैनिक पर तुरंत लगा।  वह  घोड़े से गिरा और एक पेड़ के नीचे जमीन पर सो गया।

 

 

 

उसके सोते ही जादुई बीज के सभी पेड़ मुरझा गए।  इस बात की सूचना सैनिकों ने राजकुमारी को दी।  राजकुमारी को लगा सैनिक जरुर संकट में है तभी सभी पेड़ मुरझा गए।

 

 

 

यह सोचकर  उसी रास्ते से आगे बढ़ने लगी।  जब वह सैनिक के पास आई तो  देखा वह नीचे गिरा हुआ था।  राजकुमारी को लगा सैनिक सो रहा है।

 

 

 

उसने उसे जगाने की बहुत कोशिश की लेकिन वह नहीं उठा।  उसे तो श्राप लगा था लेकिन यह बात राजकुमारी को पता नहीं थी।  राजकुमारी क्रोधित हो गयी और बोली, ” तुम इतना जगाने पर भी नहीं जाग रहे हो।  मैं तुम्हे श्राप देती हूँ कि हवाएं आयें और तुम्हे उड़ाकर किसी अनजान जगह पर गैरायें।  ”

 

 

 

 

उसका इतना कहना था कि हवाओं का एक झोंका और सैनिक को उड़ा ले गया और सैनिक को एक रेगिस्तान में गिरा दिया।  जैसे ही हवाएं सैनिक को उड़ाकर ले गयी राजकुमारी का गुस्सा शांत हो गया।

 

 

 

वह रोने लगी।  उधर सैनिक के तब तक  6 महीने पूरे हो चुके थे और सैनिक  की नींद खुल गई। सैनिक ने खुद को एक रेगिस्तान में पाया तो चौक गया।

 

 

 

 

उसने सोचा मुझे यहाँ  पर कौन लाया ?  मैं तो जंगल में गिरा था। वह रेगिस्तान पर इधर – उधर चलने लगा तभी उसे तीन युवक आपस में झगड़ते हुए दिखाई दिए।

 

 

 

Pari Story in Hindi Lyrics

 

 

 

वह  उनके पास गया और उनसे पूछा, ” आप लोग  किस बात पर झगड़ रहे हो ? ” तब उन्होंने कहा, ” हमारे पिताजी की मृत्यु हो गई है और उन्होंने हमें तीन चीजें दीं।  एक उड़ने वाला जूता, दूसरा गायब होने वाली टोपी और तीसरा एक चटाई।  अब हम आप में इसे कैसे बांटे इसी से हम परेशान है और बहस कर रहे हैं। ”

 

 

 

 

उसने उन युवकों से कहा मैं इस  समस्या का समाधान बहुत ही जल्द कर सकता हूं। तुम लोग एक काम करो,  सामने जो आम का पेड़ है  उसके पास जाओ और वहां से दौड़ कर आओ।

 

 

 

 

मैं इन तीन चीजों को एक-एक करके रख देता हूं।  जो सबसे पहले आएगा उसे जूता और जो दूसरे नंबर पर आएगा उसे टोपी और जो तीसरे नंबर पर आयेगा उसे चटाई मिलेगी।

 

 

 

इसे भी पढ़ें –

1- Pari Katha in Hindi / परियों की कहानियां / Pari Katha in Hindi to Read

2- Pari ki Kahani in Hindi

3- Pariyon ki Kahani in Hindi Pdf Download

4- Cinderella Story in Hindi

 

 

 

 

बिना कुछ सोचे समझे तीनों लड़कों ने वैसे ही किया। मौका पाकर सैनिक ने जूता पहना चटाई और टोपी के साथ में वहां से उड़ गया।  युवक उसे देखते ही रह गए।

 

 

 

उड़ते – उड़ते उसे जंगल में एक झोपड़ी दिखाई दी।  वह  वहां पर आया तो उसने देखा, ” वहां पर एक बूढी परी रहती थी।  उसने बूढी  परी को सारी बात बताई और कहा मुझे बड़ी भूख लगी है क्या मुझे कुछ खाना मिल सकता है ? ”

 

 

 

इस पर बूढी  परी ने कहा, ” क्यों नहीं ? ” यह कहकर उसने अपनी जादुई छड़ी घुमाई और वहां पर बहुत लजीज खाना प्रकट हो गया।  सैनिक ने खूब भरपेट खाना खाया और बूढी  परी का धन्यवाद दिया।

 

 

 

 

उसके बाद उसने कहा, “क्या आप मेरी एक और मदद कर सकती हैं ? क्या आप बता सकती हैं कि इस समय राजकुमारी कहां पर है ? ” तब उसने कहा, ” ठीक है तुम बहुत दुखी हो इसलिए मैं तुम्हारी मदद जरूर करूंगी।  ”

 

 

 

Stories of Fairies in Hindi Language

 

 

 

यह कहकर उसने हवा को बुलाया और उससे इस बारे में पूछा तो हवा ने कहा हां मुझे उस राजकुमारी के बारे में पता है।  उसने भूल बस इस सैनिक को इसी महीने इस सैनिक को श्राप दे दिया और  इसलिए मैंने इसे रेगिस्तान पर फेंक दिया था।

 

 

 

 

उसके  राजकुमारी को  बहुत दुख हुआ। वह अब अकेली है और उससे विवाह हेतु रोज राजा और राजकुमार आते हैं लेकिन उसने किसी से विवाह नहीं किया।  वह सैनिक का इन्तजार कर रही है।

 

 

 

इसपर  सैनिक ने कहा, ”  मैं वहां कैसे जा सकता हूं और पहुंचने में कितना दिन लगेगा?  ” तब हवा ने कहा, ” अगर पैदल जाओगे तो कम से कम २० साल और  तुम अपनी शक्तियों से उड़कर जाते हो तो कम से कम 10 साल लग जाएंगे लेकिन मैं वहां पर तुम्हें सिर्फ 3 घंटों में पहुंचा सकता हूं क्योंकि मेरी शक्तियां बहुत अधिक है।  ”

 

 

 

इस पर सैनिक ने हवा से प्रार्थना की कि कृपया मुझे पहुंचा दो।  हवा मान गयी और तीन घंटों में ही राजकुमारी के महल के बाहर छोड़ दिया। सैनिक ने उसका धन्यवाद किया और हवा  वहां से चली गई।

 

 

 

 

उसके बाद सैनिक ने टोपी पहनी और गायब हो गया।   जब वह अंदर गया तो देखा वहां पर तमाम राजा और राजकुमार बैठे हुए थे। वे सभी उसे  इंप्रेस करने की कोशिश कर रहे थे।

 

 

 

तभी सैनिक ने वहां पर वही जादुई बीज गिराए। बीज  देखते ही राजकुमारी समझ गई कि सैनिक यहां पर आ चुका है।  तब उसने एक पहेली बताई और कहा कि इसका जवाब देने वाले से ही वह शादी करेगी।

 

 

 

Pari Story in Hindi Written

 

 

उस पहेली का जवाब किसी के पास नहीं था। तब उसने टोपी  हटाई और उस पहेली का जवाब दिया।   राजकुमारी बड़ी खुश हुई बाकी सभी राजा और राजकुमार वहां से चले गए।

 

 

 

उसके बाद  राजकुमारी ने माफी मांगी और कहा, ” मेरे श्राप  की वजह से तुम्हे  इतना सब कुछ हुआ है।  ”  तब सैनिक ने कहा, ”  नहीं ऐसी कोई बात नहीं है।  मुझे हवा ने सब कुछ बता दिया है।  ”

 

 

 

उसके बाद राजकुमारी ने अपने सैनिकों से कहा कि सैनिक के माता-पिता को यहां पर लेकर आएं ताकि हम साथ में रह सके।  सैनिक  माता पिता को लेकर आये  और सभी फिर खुशहाली से रहने लगे।

 

 

 

मित्रों यह Pari Story in Hindi Written आपको कैसी लगी जरुर बताएं और Pari Story in Hindi Written Short की तरह की दूसरी कहानियों के लिए ब्लॉग को सबस्क्राइब जरुर करें और दूसरी हिंदी कहानियां नीचे पढ़ें।

 

 

1- Khoi Hui Pari ki Kahani

2- Pari Lok ki Kahani in Hindi

3- Nanhi Pari Ki Kahani 

4- Jal pari ki Kahani जलपरी की कहानी 

5- Fairy Story in Hindi

6- Jadui Pari ki Kahani 

7- Koi Hoor Pari ki Kahani

8- Pari ki Kahani in Hindi Download

 9- Hindi Kahaniya

 

Leave a Reply

Close Menu