X

Princess Story in Hindi Written / Princess Story in Hindi Language

Princess Story in Hindi Writing

 

 

 

Princess Story in Hindi Written बहुत समय पहले की बात है . पृथ्वी पर एक राजकुमारी रहती थी . उसका नाम कृतिका . वह बहुत ही खुबसूरत थी .

 

 

 

एक दिन वह बाग़ में टहल रही थी . तभी एक सुन्दर राजकुमार की नजर उस पर पड़ी . वह राजकुमार मंगल ग्रह का था  और धरती पर घुमने आया था .

 

 

 

राजकुमार राजकुमारी पर मोहित हो गया . वह राजकुमारी के पास आया और प्रणय निवेदन किया . राजकुमारी ने स्वीकार कर लिया . दोनों विवाह बंधन में बंध गए .

 

 

 

कुछ समय पश्चात राजकुमारी ने एक परी सी खुबसूरत पुत्री को जन्म दिया . उसके जन्म लेते ही धरती फूलों से सज गयी . चिड़िया गीत गाने लगी और मौसम सुहावना हो गया .

 

 

 

राजकुमारी ने उसका नाम फाल्गुनी रखा .  फाल्गुनी धीरे – धीरे बड़ी होने लगी . राजकुमार और राजकुमारी दोनों उसे खूब प्यार करते थे . दोनों के लाड प्यार में फाल्गुनी युवावस्था में पहुँच गयी .

 

 

 

राजकुमारी की कहानी हिंदी में

 

 

 

 

अब फाल्गुनी के माता – पिता को उसकी शादी की चिंता सताने लगी . फाल्गुनी की खूबसूरती की चर्चा बड़े दूर – दूर तक फैली हुई थी . रोज अनेकों राजकुमार उसे देखने आते लेकिन फाल्गुनी उन्हें मना कर देती .

 

 

 

एक दिन की बात है . एक सुन्दर नौजवान युवक भी फाल्गुनी को देखने आया . उसका नाम आवेश था . वह सूर्य ग्रह का राजकुमार था  . राजकुमारी उसे देखते ही उसपर फ़िदा हो गयी .

 

 

 

 

 

उसने राजकुमार आवेश के समक्ष शर्त रखी कि विवाह के बाद उसे भी यहीं रहना होगा क्योंकि वह अपने माता – पिता को छोड़कर नहीं जा सकती है .

 

 

 

आवेश ने उसे बहुत समझाया लेकिन वह नहीं मानी . अंत में आवीश ने एक प्रस्ताव दिया कि वह साल के नौ महीने मेरे साथ रहे और साल बचे  तीन महीने मैं उसके इस घर पर रहूंगा .

 

 

 

Snow White Aur Saat Baune in Hindi / Snow White aur Saat Boney

 

 

 

राजकुमारी मान गयी और दोनों का विवाह हो गया . विवाह के बाद राजकुमारी फाल्गुनी और राजकुमार आवेश सूर्य ग्रह चले गये .  उसके बाद मंगल ग्रह के राजकुमार ने कृतिका से कहा कि, ” हमें भी मंगल ग्रह चलना चाहिए . आखिर कितने वर्ष गुजर गए हैं . ”

 

 

 

इसपर कृतिका ने कहा, ” आप जाओ . मैं अभी कुछ दिन और यहाँ रहना चाहती हूँ . ” उसके बाद राजकुमार मंगल ग्रह चला गया . कृतिका अकेली पड़ गयी .

 

 

 

New Princess story in Hindi Written

 

 

 

एक दिन की बात है . वह अकेली टहल रही थी कि इतने में एक बर्फ की राक्षसी वहाँ आई . उसने कहा, ” कृतिका, अब तुम्हारा समय ख़त्म हुआ . अब पूरी धरती पर बर्फ का साम्राज्य होगा . ”

 

 

 

यह कह कर उसने कृतिका को बर्फ से जमा दिया और उसके बाद पुरे धरती पर बर्फ पड़ने लगी . जहां देखो बर्फ ही बर्फ . धरती पर हाहाकार मच गया .

 

 

 

जब यह बात मंगल ग्रह के राजकुमार को पता चली तो उसे बहुत ही बुरा लगा . उसने सूर्य ग्रह के अपने दामाद आवेश और पुत्री फाल्गुनी को इसकी सूचना दी .

 

 

 

उसके बाद तीनो एक साथ पृथ्वी पर आये . आवेश ने क्रोध में बर्फ की राक्षसी से कहा, ” तुम तुरंत ही हमारी सासू माँ राजकुमारी कृतिका को छोडो . नहीं तो मैं तुम्हे पिघला दूंगा . ”

 

 

 

बर्फ की राक्षसी जोर से हंसी और बोली, ” मैं उसे नहीं छोडूंगी . अब इस धरती पर मेरा राज है . ” आवेश का गुस्सा और बढ़ गया . उसने तापमान में वृद्धि कर दी और वह राक्षसी पिघलने लगी .

 

 

 

तब राक्षसी ने कहा, ” ठीक है . मैं कृतिका को छोड़ दूंगी लेकिन मेरी एक शर्त है . मैं इस धरती पर तीन महीने अपना राज चलाऊँगी . ” इसपर आवेश क्रोध से बोला, ” मुझे तुम्हारी कोई शर्त मंजूर नहीं . मैं तुम्हे पिघला दूंगा . ”

 

 

 

तब राक्षसी ने कहा, ” ठीक है . तुम मुझे पिघला दो , लेकिन उसकी बाद पृथ्वी पर बाढ़ आ जायेगी . कोई भी नहीं बचेगा और उसके जिम्मेदार सिर्फ तुम होगे . ”

 

 

 

तब राजकुमारी फाल्गुनी बोली, ” ठीक है . हम तुम्हे समय देंगे . लेकिन सिर्फ तीन महीने ही इस धरती पर तुम रहोगी . ” ठीक है राजकुमारी यह कहकर वह राक्षसी वहाँ से चली गयी .

 

 

 

उसके जाते ही राजकुमारी कृतिका भी आज़ाद हो गयी  और पूरी धरती फिर से स्वर्ग बन गयी . उसके बाद राजकुमारी फाल्गुनी ने अपनी माँ को कृतिका को बताया कि उसे एक पुत्र हुआ है और उसका नाम बरसात रखा गया है .

 

 

 

 

Princess ki Story in Hindi Language

 

 

 

 

तब कृतिका ने कहा, ” कहाँ है वह? क्या तुम उसे लायी हो ? ” नहीं माँ मैं उसे नहीं ला पायी . ऐसे समय में उसे लाना उचित नहीं था . तब कृतिका ने कहा, ” ठीक है . अब तीन महीने फाल्गुनी मेरे संग रहेगी तब पूरी धरा पर वसंत ऋतू होगी . उसके बाद आवेश रहेगा तब गर्मी का मौसम होगा और उसके बाद मेरा पोता बरसात आयेगा और तब बारिश होगी और उसके बाद वह बर्फ की राक्षसी आएगी और तब ठण्ड पड़ेगी . ”

 

 

 

सबने कृतिका की बात मान ली और फिर वैसे ही वे आने – जाने लगे और धरती पर मौसम भी बदलता रहा.

 

 

 

२- Princess story in hindi language written एक राज्य में एक राजा राज करते थे . उनका एक पुत्र था . वह बहुत ही होनहार और पराक्रमी था . एक दिन राजा ने स्वप्न देखा कि उनका पुत्र मर गया है और वे दहाड़ मारकर रो रहे हैं .

 

 

 

एक पिता के लिए यह स्वप्न कितना हो सकता है यह आप भली – भाँती समझ सकते हैं . राजा की नीद खुल गयी . नीद खुलने पर उन्होंने कहा, ” ओह ! यह तो स्वप्न था . बहुत ही भयावह स्वप्न . ”

 

 

 

जीतनी ख़ुशी राजा को उनके पुत्र के पैदा होने पर नहीं हुई थी उससे अधिक ख़ुशी उन्हें आज हो रही थी . राजा ने  दरबार में अपने मंत्रियों तथा राजपुरोहितों को इस बारे में बताया .

 

 

 

 

 

 

राजपुरोहितों ने गणना करके कहा, ” महाराज ! इस स्वप्न का अर्थ यह है कि राजकुमार की आयु बढ़ गयी है . अब उनका विवाह करा देना चाहिए . ”

 

 

 

राजा खुश हुए और उन्होंने अपने पुत्र की शादी अपने मित्र जादूगर राजा की पुत्री से करवा दी . जादूगर राजा की पुत्री बहुत ही खुबसूरत थी, लेकिन राजकुमार किसी और से प्रेम करता था और वह इस विवाह से खुश नहीं था .

 

 

 

खोई हुई परी की कहानी / Khoi Hui Pari Ki Kahani In Hindi / Pariyon Ki Kahani

 

 

इतना ही नहीं उसने राजकुमारी का चेहरा तक नहीं देखा . वह जिस स्त्री से प्यार करता था वह एक चुड़ैल थी और राजा को यह बात पता थी . इसीलिए उन्होंने राजकुमार का विवाह जादूगर राजा की पुत्री के साथ कराया था .

 

 

 

 

विवाह के बाद राजकुमार महल ना आकर सीधे उस महिला के घर चला गया . इससे राजकुमारी बहुत दुखी हुई और राजा को भी इससे बहुत पीड़ा पहुंची .

 

 

 

 

Barbie Princess story in Hindi written

 

 

 

उन्होंने राजकुमारी के पिता जादूगर राजा से संपर्क किया और उन्हें सारी बात बता दी . इसपर उन्होंने कहा, ” महाराज उस चुड़ैल को तो मेरी बेटी ही हरा सकती है . आप सिर्फ हुक्म करें . मैं अपनी बेटी से बात करता हूँ . ”

 

 

 

राजा बड़े ही खुश हुए और उन्होंने हाँ कह दी . उसके बाद जादूगर राजा ने अपनी बेटी को पूरी बात बताई . इसपर उनकी बेटी ने कहा, ” मैं अपने पतिदेव को उस चुड़ैल से जरुर छुडा लाऊंगी . मुझे कुछ सैनिक और उस चुड़ैल के घर का पता और कुछ पैसे दिए जाएँ .”

 

 

 

राजा ने अपनी पुत्रबधू की सभी मांग पूरी कर दी . राजकुमारी उस चुड़ैल के घर के कुछ दूर पर अपना डेरा जमाया . उसने वहाँ के तमाम गाँव घोषणा करवा दी कि आज की रात यहाँ एक नृत्य होगा .

 

 

 

 

रात के समय तमाम गांववाले वहाँ आये और उसमें राजकुमार भी था . राजकुमारी के नृत्य ने राजकुमार का मन मोह लिया . नृत्य के बाद सभी गांववाले तो चले गए, लेकिन राजकुमार वही रुका रहा .

 

 

 

” क्या हुआ साहेब? आपको घर नहीं जाना है क्या ? नहीं जाना है तो यहीं ठहर जाइए . ” राजकुमारी ने कहा . राजकुमार तो खुद भी यही चाहता था . वह वही रुक गया .

 

 

 

 

राजकुमारी ने खूब स्वादिष्ट व्यंजन तैयार किया और राजकुमार को दिया . राजकुमार बहुत खुश हुआ . सुबह हुई तो जब राजकुमार जाने के लिए तैयार हुआ तब राजकुमारी ने एक  निशानी मांगी .

 

 

 

राजकुमार ने उसे अपनी अंगूठी निकालकर दे दी . उसके बाद वह रोज आता और रातभर रहने के बाद वह चला जाता . उसके इस तरह से रात भर गायब रहने से चुड़ैल को शक हुआ .

 

 

 

उसने चुपके से एक दिन राजकुमार का पीछा किया . जब उसने देखा कि राजकुमार एक नर्तकी के घर जाता है और वहीँ रात भर रहता है तो उसे बहुत क्रोध आया .

 

 

 

Disney princess story in Hindi written

 

 

 

वह वहाँ से चुपचाप चली गयी . अगले दिन जब राजकुमार उसके घर गया तो उसने क्रोध से कहा, ” राजकुमार अब तुम्हे यहाँ आने की कोई जरुरत नहीं है . तुम रातभर जहां रहते हो वहीँ जाओ . ”

 

 

 

राजकुमार को चुड़ैल की बात पर बहुत गुस्सा आया . वह सीधा राजकुमारी के घर की तरफ चल दिया . इधर राजकुमारी ने गुप्तचर सिपाही की मदद से पूरी बात जान ली और उसके उसने फ़टाफ़ट सामान पैक किया और राज्य में वापस आ गयी .

 

 

 

इधर जब राजकुमार उसके घर आया तो वहां कोई नहीं था . आस – पास  के लोगों से पूछने पर पता चला कि वह तो अपने गाँव चली गयी . राजकुमार बड़ा निराश हुआ.

 

 

 

अब उसके पास कोई रास्ता नहीं बचा था . वह भी अपने राज्य वापस लौट आया . इससे राजा बड़े ही खुश हुए, लेकिन राजकुमार का मन किसी कार्य में नहीं लगता था .

 

 

 

 

वह हर पल उस नर्तकी के ख्वाब में खोया रहता था . ना खाता ना पीता . राजा तो बड़े ही चिंतित हुए और उन्होंने अपनी पुत्रवधू से इस बारे में बात की .

 

 

जलपरी का खजाना / जलपरी की कहानियां २०२० की / Pari ki Kahani in Hindi

 

 

 

उसने कहा चिंता की कोई बात नहीं  है . कुछ ही दिनों में सब सही होने वाला है . उसके बाद उसने राजकुमार के लिए बहुत ही स्वादिष्ट भोजन तैयार किया औरकटोरी की  सब्जी में उसने वही अंगूठी डाल दी जो राजकुमार ने दी थी .

 

 

 

नौकरानी जब भोजन लेकर गयी तो राजकुमार ने भोजन करने से मना कर दिया . तब नौकरानी ने कहा, ” राजकुमार जी, राजकुमारी जी ने ख़ास आपके लिए यह भोजन तैयार किया है . ” काफी कहने के बाद राजकुमार भोजन के लिए तैयार हुआ .

 

 

Story of barbie in Hindi for reading

 

 

 

राजकुमार जब खाना खा रहा था तो उसे वह अंगूठी मिल गयी . अंगूठी मिलते ही वह हैरान रह गया . उसने तुरंत ही नौकरानी को बुलाया और पूछा, ” क्या सच में आज का भोजन राजकुमारी ने बनाया है? ”

 

 

 

 

 

इसपर नौकरानी ने हाँ में जवाब दिया . राजकुमार ने फिर पूछा, ” अच्छा राजकुमारी दिखती हैसी हैं ? ”

 

 

 

” राजकुमार जी, आप नसीब वाले हो . राजकुमारी परियों सी सुन्दर हैं . विश्वास ना हो तो आप खुद ही जाकर देख लो . ” नौकरानी ने कहा . राजकुमार अन्दर गया और राजकुमारी को देखते ही हैरान रह गया .

 

 

 

वह अभी कुछ बोलता कि इसके पहली राजकुमारी ने पूरी बात बतानी शुरू कर दी . राजकुमार राजकुमारी की बात सुनकर बहुत खुश हुआ और फिर वह राज – काज में भी भाग लेने लगा और सब ख़ुशी से रहने लगे .

 

 

 

 

3- Prince and princess story in hindi written   एक बड़े राज्य में एक राजा राज करता था।  वह राज्य  बहुत ही समृद्धशाली  था।  वहां की जनता बहुत ही खुशहाल थी। राजा की एक बेटी थी जिसका नाम था राधिका।

 

 

 

उसे सोने, चांदी, हीरे, मोती  का  बड़ा लगाव था। उसका सबसे प्रिय गहना उसका नौलखा हार था जिसे वह हमेशा पहनती थी। एक  दिन की बात है स्नान करने के बाद राजकुमारी राधिका  छत पर अपने बालों को सुखा रही थी।

 

 

 

 

उसने अपना नौलखा हार निकालकर बगल में रखा था।  उसी समय वहां से एक  कौवा उड़ा।  उसने जब नौलखा हार देखा तो उसे खाने की वस्तु समझकर ले उड़ा।

 

 

 

वह एक आम के पेड़ की डाली पर उसे जाकर तोड़ने लगा।  उस पेड़ के नीचे एक नदी बहती थी। उस नदी में उस  नौलखा हार की छाया ऐसे प्रतीत हो रही थी जैसे कि वह नौलखा हार उस नदी में ही रखा गया हो।

 

 

 

अब चूँकि हार कोई खाने की चीज तो थी नहीं कौवा चोंच  मार- मार के परेशान हो गया लेकिन नौलखा हार टूटने का नाम ही नहीं लिया।  कौवा परेशान होकर हार  को वहीं पेड़  पर छोड़ कर उड़ गया।

 

 

 

 

इधर जब राजकुमारी ने हार  नहीं देखा तो वह  बड़ी परेशान हुई क्योंकि वह नौलखा हार उन्हें बहुत ही प्रिय था। उन्होंने इधर = उधर  उस हार  को बहुत ढूंढा लेकिन हार वहां था ही नहीं तो मिले कैसे ?

 

 

 

 

 

राजकुमारी बहुत परेशान हो गई और उसके बाद वह अपने पिताजी के पास पहुंची और उनसे सारी बात कह सुनाई। तब राजा ने कहा कोई बात नहीं हम दूसरा हार  बनवा देंगे।

 

 

 

 

लेकिन राजकुमारी उसी हार  के लिए जिद करने लगी।  तब राजा ने पूरे राज्य में घोषणा करवा दी कि जो भी वह नौलखा हार ढूंढ कर लाएगा उसे बहुत ज्यादा इनाम दिया जाएगा।

 

 

 

यह खबर पूरे राज्य में जंगल की आग की तरह फैल गई। सभी लोग उस नौलखा हार को ढूढ़ने लगे।  ढूंढते – ढूंढते कुछ लोग उस नदी के किनारे पहुंचे जहां आम की डाली पर वह हार टंगा हुआ था।

 

 

 

सभी लोगों ने सोचा यह हार  नदी में क्यों गिरा है ? लगता है किसी ने डर के  वजह से इसे नदी में फेंक दिया है।  एक आदमी जल्दी से उस नदी में कूद पड़ा हार  लेने के लिए।

 

 

 

लेकिन यह क्या वह नौलखा हार तो गायब हो गया।  बेचारा वह आदमी नदी से वापस लौट आया।  लेकिन कुछ देर बाद जैसे ही पानी शांत हुआ वह नौलखा हार फिर से दिखाई दिया।

 

 

 

उसके बाद कुछ लोगों ने नदी में जाकर प्रयास किया लेकिन फिर वही बात हार  फिर से गायब।  यह बात पूरे राज्य में फैल गई। तमाम लोगों ने आकर प्रयास किया लेकिन वह हार  उनके हाथ नहीं आया।

 

 

 

तभी एक संत उधर से जा रहे थे।  उन्होंने जब यह हाल देखा तो हंसने लगे। उन्हें  हंसता देख एक सैनिक ने कहा आप इस प्रकार क्यों हंस रहे हैं ? तब संत ने कहा आप लोग जो हार ढूंढ रहे हैं वह नदी में नहीं बल्कि उसके ऊपर आम के पेड़ की डाली पर है। थोड़ा ऊपर भी तो देखो।

 

 

 

जब सपने ऊपर देखा तो आम की डाली पर वह  नौलखा हार टंगा  हुआ था। यह देख कर सबको  गलती का एहसास हो गया। इसपर संत ने कहा कि इससे हमें यह सीख मिलती कि परिश्रम उचित स्थान पर करना  चाहिए अन्यथा मेहनत व्यर्थ हो जाती है। हार के मिलने पर राजकुमारी बहुत खुश हुई और राजा ने संत का बहुत सम्मान किया।

 

 

मित्रों यह Princess Story in Hindi Written आपको कैसी जरुर बताएं और Princess Story in Hindi pdf की तरह की दूसरी Barbie Princess story in hindi के लिए इस ब्लॉग को सबस्क्राइब जरुर करें और दूसरी हिंदी कहानी नीचे की लिंक पर क्लिक कर पढ़ें.

 

 

 

1- Fairy Princess Story

 

2- Barbie princess story in Hindi

 

3- Cinderella story in Hindi written in short

 

4- Rapunzel Story in Hindi Written / Rapunzel Story in Hindi Pdf 2020

 

5- Story of barbie in Hindi for reading

 

6- Cinderella story in Hindi lyrics

 

7- New princess story in Hindi

 

8- barbie princess story in Hindi

 

 9-Hindi Story

 

 

Categories: Pari ki kahani
Abhishek Pandey:

This website uses cookies.