RAjniti/राजनीती

Sam Pitroda

Sam Pitroda
Written by Abhishek Pandey

Sam Pitroda पाकिस्तान के बालाकोट में भारतीय वायु सेना की एयर स्ट्राइक पर सवाल उठाकर कांग्रेस को मुश्किलों में डालने वाले Sam Pitroda कौन हैं. आईये इस पोस्ट के माध्यम से जानते हैं Sam Pitroda के बारे में, जिन्होंने आज एक बयान देकर कांग्रेस को मुश्किल में डाल दिया और चुनाव के समय कांग्रेस उनके बयान को निजी बताकर पल्ला झाड रही है.

 

Sam Pitroda को गांधी परिवार का करीबी माना जाता है. वे इस समय ओवरसीज कांग्रेस के चेअरमैन हैं. पुलवामा हमले पर सैम ने कहा था कि कुछ लोगों की गलती की सजा पूरे पाकिस्तान को देना ठीक नहीं है. Sam Pitroda का असली नाम सत्यनारायण गंगाराम पित्रोदा है. ४ मई १९४२ को सैम का जन्म ओडिशा के एक गुजराती परिवार में हुआ था. सैम के पिता बढ़ई का काम करते थे. चूंकि उनके पिता चाहते थे कि वे गुजराती सीखें, अत: उनकी शुरुआती शिक्षा गुजरात में हुई. फिजिक्स और इलेक्ट्रॉनिक्स में उन्होंने महाराजा सयाजीराव यूनिवर्सिटी से मास्टर डिग्री हासिल की. अमेरिका की इलिनॉइस इंस्टीट्‍यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से भी शिक्षा प्राप्त की.

 

Sam Pitroda को भारत में सूचना क्रान्ति का जनक माना जाता है. माना जाता है कि जब मोबाइल फोन लाने का विचार किया जा रहा था तो उसके पीछे सैम का ही हाथ था. साल २००५ से २००९ तक सैम भारतीय ज्ञान आयोग के चेयरमैन रह चुके हैं. १९८४ में उन्होंने दूरसंचार के क्षेत्र में अनुसंधान और विकास के लिए सी-डॉट यानी ‘सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ़ टेलिमैटिक्स’ की स्थापना की थी. उनकी क्षमता से प्रभावित होकर राजीव गांधी ने उन्हें घरेलू और विदेशी दूरसंचार नीति को दिशा देने का काम दिया. सैम यूपीए सरकार के समय प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह के के जन सूचना संरचना और नवप्रवर्तन सलाहकार रह चुके हैं.

 

सैम कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को राजनीतिक सलाह देने का काम भी करते हैं. राहुल गांधी के साथ ही सैम राजिव गांधी के भी काही कारबी रहे हैं. राहुल गांधी की छवि में आये बदलाव का श्रेय भी कांग्रेस के कई नेता सैम पित्रोदा को ही देते हैं. राजीव गांधी की मौत के बाद सैम ने कहा था कि मैंने अपना सबसे प्यारा दोस्त खो दिया. इस हादसे का बाद भारत में उनका मन नहीं लगा.

 

पढ़ाई खत्म करने के बाद सैम ने टेलीविज़न ट्यूनर बनाने वाली कंपनी ओक इलेक्ट्रिक में काम करना शुरू कर दिया. तब तक उनका नाम सत्यनारायण पित्रोदा हुआ करता था. जब उनको अपने वेतन का चेक मिला तो उसमें उनका नाम सैम लिखा हुआ था. जब उन्होंने इस संबंध में शिकायत की तो वेतन का काम देखने वाली महिला ने कहा कि तुम्हारा नाम बहुत लंबा है, इसलिए मैंने बदल दिया और, इस तरह सत्यनारायण सैम पित्रोदा हो गए.

 

इंडियन ओवरसीज कांग्रेस के चेयरमैन Sam Pitroda के पुलवामा और एयर स्ट्राइक पर दिए बयान के बाद सोशल मीडिया पर कांग्रेस की काफी फजीहत हो रही है. लोग ट्विटर पर Sam Pitroda के साथ ही कांग्रेस को लेकर रिएक्शन दे रहे हैं. ट्विटर पर Sam Pitroda टॉप पर ट्रेंड कर रहा है. कुछ यूजर्स ने कमेंट किया कि अभी तो कांग्रेस का और जलील होना बाकि है. एक यूजर ने लिखा कि २०१९ में भाजपा शायद ३००-३५० सीटें लेकर संतुष्ट हो जाए पर कांग्रेस मोदी जी को ४०० सीटें देकर ही मानेगी. यूजर्स फनी मीम के जरिए पित्रोदा को ट्रोल कर रहे हैं.

 

इंडियन ओव्हरसीज काँग्रेस के प्रमुख Sam Pitroda ने पुलवामा हमला और भारतीय एयर स्ट्राइक पर दिये बयान को रक्षा विशेषज्ञ कर्नल अभय पटवर्धन ने शर्मनाक करार दिया है. सॅम पित्रोदा के बयान को उन्होने निजी राय मानने से इन्कार करते हुए इसे कांग्रेस का आधिकारिक बयान बताया. अपने बयान को निजी राय बता कर पित्रोदा इस मामले में लीपापोती कर रहे है. पित्रोदा जैसे व्यक्ति पार्टी का चेहरा होते है. इसलिए उनके बयान को किसी भी कीमत पर काँग्रेस से अलग कर के नही देखा जा सकता. पटवर्धन ने बताया कि वायुसेना कि एयर स्ट्राइक के बाद, कितने लोग मरे, कहाँ मरे इसका जवाब देना किसी भी राजनीतिक पार्टी की जिम्मेदारी नही होती है.

 

मित्रों आपको यह पोस्ट Sam Pitroda कैसी लगी जरुर बताएं और इस तरह की ताज़ी और विशेष क्खाबरों तथा कहानिया के लिए इस ब्लॉग लाइक, शेअर और सबस्क्राइब करें और दूसरी पोस्ट के लिए इस लिंक kesari BJP candidate list 2019 पर क्लिक करें.

About the author

Abhishek Pandey

Leave a Comment