Image

शंकर भगवान / sankar bhagwan

शंकर भगवान / sankar bhagwan
Written by Abhishek Pandey

शंकर भगवान / sankar bhagwan इस साल की mahashivratri सोमवार के दिन ४ मार्च २०१९ को मनाया जायेगा. shivratri भारत का बहुत ही विशेष और पहत्वपूर्ण पर्व है. इस दिन की गयी पूजा का फल अवश्य ही प्राप्त होता है. shivratri के दिन lord shiva के सभी मंदिरों को खूब सजाया जाता है. प्रत्येक मंदिर में लोगों की , आस्थावानों की , भक्तों की बहुत बड़ी भीड़ उमड़ती है. हर कोई अपने आराध्य दीन दयालु lord shiva को प्रसन्न करना चाहते हैं . lord shiva बहुत ही दयालु हैं. वे सिर्फ सच्ची भक्ति से प्रसन्न हो जाते हैं.

 

शंकर भगवान / sankar bhagwan

शंकर भगवान / sankar bhagwan

 

 

शंकर भगवान / sankar bhagwan

शंकर भगवान

 

 

शंकर भगवान / sankar bhagwan शास्त्रों के अनुसार शिवरात्रि के दिन भक्ति से पूजा करने पर भगवान भोलेनाथ प्रसन्न होते हैं लेकिन ब्रह्मवैवर्त पुराण में वर्णित है कि इस दिन भगवान विष्णु भी प्रसन्न होकर मनचाही कामना पूरी करते हैं . आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि महाशिवरात्रि को राशि के अनुसार कौन सा मन्त्र आपके लिए फलदायी होगा.

शंकर भगवान / sankar bhagwan

sankar bhagwan

 

शंकर भगवान / sankar bhagwan

sankar bhagwan

 

मेष – ॐ विश्वरूपाय नम:

वृषभ – ॐ उपेन्द्र नम: 

मिथुन – ॐ अनंताय नम:

कर्क – ॐ दयानिधि नम: 

सिंह – ॐ ज्योतिरादित्याय नम:

कन्या – ॐ अनिरुद्धाय नम:

तुला – ॐ हिरण्यगर्भाय नम:

वृश्चिक – ॐ अच्युताय नम: 

धनु – ॐ जगतगुरवे नम: 

मकर – ॐ अजयाय नम: 

कुंभ – ॐ अनादिय नम:

मीन – ॐ जगन्नाथाय नम:

शंकर भगवान / sankar bhagwan

sankar bhagwan

 

shivratri पर lord shiva का अभिषेक अनेक तरह से किया जाता है. जिसमें जलाभिषेक और दुग्धाभिषेक प्रमुख है. जलाभिषेक अर्थात जल से और दुग्धाभिषेक दूध से. shivratri बहुत जल्दी सुबह-सुबह lord shiva के मंदिरों पर भक्तों, जवान और बूढ़ों का ताँता लग जाता है वे सभी पारंपरिक शिवलिंग पूजा करने के लिए आते हैं और भगवान से प्रार्थना करते हैं. भक्त सूर्योदय के समय पवित्र स्थानों पर स्नान करते हैं , यह शुद्धि के अनुष्ठान हैं, जो सभी हिंदू त्योहारों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं. पवित्र स्नान के बाद स्वच्छ वस्त्र पहने जाते हैं, भक्त शिवलिंग स्नान करने के लिए मंदिर में पानी का बर्तन ले जाते हैं महिलाओं और पुरुषों दोनों lord shiva , lord surya और lord shiva की प्रार्थना करते हैं मंदिरों में घंटी और भगवन भोले की जय ध्वनि गूंजती है. भक्त शिवलिंग की तीन या सात बार परिक्रमा करते हैं और फिर शिवलिंग पर पानी या दूध भी डालते हैं.

 

मित्रों यह bhakti story  शंकर भगवान / shankar bhagwan आपको कैसी लगी अवश्य बताये और भी अन्य bhakti story के लिए इस लिंक  Ramu ki bhakti पर क्लिक करें.

About the author

Abhishek Pandey

Leave a Comment