Moral Story

संत कबीर का सुझाव

संत कबीर का सुझाव

संत कबीर का सुझाव संत कबीर रोज सत्संग करते थे. उसमें बहुत सारे भक्त आते थे और उसको अमल करके अपने जीवन को सफल बनाते थे. एक दिन की बात है रोज की तरह ही संत कबीर प्रवचन दे रहे थे. सत्संग के खत्म होने र सभी भक्त गण अपने अपने घरों की ओर चल दिए, लेकिन एक व्यक्ति वहीँ बैठा रहा. जब कबीर ने उससे पूछा कि क्या हुआ, क्यों परेशान हो… सभी लोग चले गए लेकिन तुम क्यों नहीं गए…किस बात की परेशानी है.

तब उस व्यक्ति ने कहा कि मुझे आपसे कुछ पूछना है. मैं एक गृहस्थ हूँ. घर में हमेशा ही आपस मीन झगडा होता रहता है जिससे घर का माहौल हमेशा ही ख़राब रहता है. मैं आपसे इसका हल जानना चाहता हूँ कि कैसे इसे सुलझाया जा सके.

संत कबीर का सुझाव
संत कबीर का सुझाव

कबीर जी कुछ समय तक शांत रहे. फिर उसके बाद अपनी पत्नी को कहा की लालटेन जलाकर लाओ. इस पर कबीर की पत्नी ने लालटेन जलाकर ले आयीं. इस पर वह आदमी एकदम से हैरान रह गया की इस भरी दोपहरी में कबीर जी ने लालटेन क्यों मंगवाई.

इसके बाद संत कबीर ने अपनी पत्नी से कहा कि कुछ मीठा लेकर आओ. इसपर उनकी पत्नी ने मीठे की जगह नमकीन लाकर दे दिया . इस पर उस आदमी ने मन ही मन कहा कि कैसे लोग हैं मीठे के बदले नमकीन और दिन में यहाँ तक की भरी दोपहर में लालटेन.

इस पर उस आदमी ने खीझकर कहा कि यह सब क्या है. मैं तो अपनी समस्या के समाधान के लिए यहाँ आया था और आपने यह सब दिखा दिया . इससे तो मैं और भी परेशान हो गया. इस पर संत कबीर मुस्कुराए अकुर कहा कैसे ही मैंने लालटेन मंगवाई तो मेरी पत्नी कह सकती थी की तुम्हें हो क्या ग्या है भरी दोपहरी में लालटेन मगवां रहे हो, लेकिन उसने कुछ नहीं. चुपचाप लालटेन लाकर रख दी. उसी तरह जब मैंने मीठा मंगवाया तो उसने नमकीन ला दी तो मैं यह सोचकर चुप रहा कि हो सकता है घर में कोई मीठा ना हो.

अब वह व्यक्ति सबकुछ समझ गया. कबीर ने कहा गृहस्थी में आपसी विश्वास से ही तालमेल बनता है. आदमी से गलती हो तो औरत संभाल ले और जब औरत से गलती हो तो आदमी संभाल ले. यही गृहस्थी का मूल मन्त्र है. मित्रों यह पोस्ट संत कबीर का सुझाव आपको कैसी लगी अवश्य ही बताएं और अन्य कहानी के लिए इस लिंक पर क्लिक https://www.hindibeststory.com/badmaash-chuha-moral-story/ करें.

About the author

Abhishek Pandey

Leave a Comment