Biography

smriti irani biography

smriti irani biography
Written by Abhishek Pandey

smriti irani biography स्मृति इरानी आज राजनीती का एक जाना – पहचाना नाम हैं. राजनीति में आने से पहले उन्होंने टेलीविजन सीरियल ” क्योंकि सास भी कभी बहू थी ” में काम किया और इस सीरियल से वे बहुत ही लोकप्रिय हुईं. आईये आज इस पोस्ट smriti irani biography के माध्यम से उनके बारे में जानते हैं. smriti irani के शादी के पहले का नाम स्मृति मल्होत्रा है.

smriti irani full mame – स्मृति जुबिन इरानी

smriti irani father name – अजय कुमार मल्होत्रा

smriti irani mother name – शिबानी बाग्ची

smriti irani date of birth – २३ मार्च १९७६

smriti irani birthday – २३ मार्च

smriti irani birh place – दिल्ली

smriti irani husband name – जुबिन इरानी

smriti irani son name – Zohr Irani

smriti irani daughter name – Zoish Irani

smriti irani education – 12th +

 

स्मृति इरानी का जन्म दिल्ली में २३ मार्च १९७६ को हुआ. इनके पिता का नाम अजय कुमार मल्होत्रा है , जो कि पंजाबी फैमिली से आते हैं और smriti irani के माता का नाम शिबानी बाग्ची है जो कि एक बंगाली हैं. irani ने दिल्ली में शिक्षा ग्रहण करने के बाद माडलिंग का रुख किया. इरानी मॉडलिंग में प्रवेश करने से पहले, मैकडॉनल्ड्स में वेट्रेस और क्लीनर का कार्य कर चुकी हैं . उन्होंने १०वीं की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद से ही माडलिंग के क्षेत्र में हाथ आजमाना शुरू कर दिया. वे सौंदर्य प्रसाधन के प्रचार करने लगी थी. रूढ़ीवादी पंजाबी-बंगाली परिवार की तीन बेटियों में से एक स्मृति ने सारी बंदिशें तोड़कर ग्लैमर जगत में कदम रखा. उन्होंने १९९८ में मिस इंडिया प्रतियोगिता में हिस्सा लिया, लेकिन फाइनल तक नहीं पहुँच सकीं . इसके बाद स्मृति ने मुंबई जाकर अभिनय में किस्मत आजमाई और सफल रहीं .

 

स्मृति ज़ुबिन ईरानी स्मृति ईरानी एक मॉडल थी और स्विमवीयर में फोटोशूट भी किया. उन्होने वर्ष १९९८ में फेमिना मिस इंडिया सौंदर्य प्रतियोगिता के फाइनल में पहुंची, किन्तु विजेता नहीं बन पायी. स्मृति इरानी ने वर्ष २००० में टेलीवीजन सीरियल ‘हम है कल आज कल और कल’ के साथ अपने करियर की शुरुआत की, लेकिन उन्हें एकता कपूर के सास बहू सीरियल ‘क्योंकि सास भी कभी बहू थी’ से घर – घर में पहचान मिली. इसमें स्मृति इरानी ने मुख्य भूमिका निभाई थी. इसमें उनका नाम तुलसीथा . यह सीरियल ३ जुलाई २००० से ६ नवम्बर २००८ तक चला.

स्मृति ज़ुबिन ईरानी ने पांच सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के लिए भारतीय टेलीविजन अकादमी अवार्ड, चार इंडियन टेली अवार्ड और आठ स्टार परिवार पुरस्कार जीतीं. वर्ष २००१ में उन्होने जीटीवी पर प्रसारित रमायण में सीता का किरदार निभाया था. वर्ष २००६ में उन्होने बालाजी टेलीफिल्मस के अंतर्गत ‘थोड़ी सी जमीन और थोड़ा सा आसमान’ टीवी सीरियल में सह निदेशक की भूमिका अदा की. वर्ष २००८ में उन्होंने डांस पर आधारिक टीवी सीरियल ‘ये हैं जलवा’ को साक्षी तनवर के साथ होस्ट किया.

 

smriti irani का बचपन के दोस्त जुबिन इरानी के साथ २००१ मे विवाह हुआ और तब वे स्मृति मल्होत्रा से स्मृति इरानी हो गयीं. उनके दो बच्चे जोहर इरानी और ज़ोइश इरानी हैं. स्मृति इरानी से साल २००३ में राजनीति में कदम रखा. उनके दादा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक थे. हालांकि बीजेपी के साथ पहले उनका रिश्ता सौहार्दपूर्ण नहीं था. २००४ में उन्होंने २००२ के दंगों के लिए नरेन्द्र मोदी से इस्तीफे की मांग की थी. इससे पार्टी उनपर नाराज हुई और बयान वापस लेने को कहा और कार्यवाही से बचने के लिए उन्होंने बयान वापस ले लिया था.

 

स्मृति इरानी ने अपना पहला चुनाव दिल्ली के चाँदनी चौक लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से लड़ा, जिसमें वो कांग्रेस उम्मीदवार और कद्दावर कपिल सिब्बल से गयीं. वर्ष २००४ में इन्हें महाराष्ट्र यूथ विंग का उपाध्यक्ष बनाया गया. इन्हें पार्टी ने पांच बार केंद्रीय समिति के कार्यकारी सदस्य के रूप में मनोनीत किया और राष्ट्रीय सचिव के रूप में भी नियुक्त किया. वर्ष २०१० में उन्हें भाजपा महिला मोर्चा की कमान सौंपी गई. वर्ष २०११ में वे गुजरात से राज्यसभा की सांसद चुनी गई. इसी वर्ष इनको हिमाचल प्रदेश में महिला मोर्चे की भी कमान सौंप दी गई.

 

२०१४ के लोकसभा चुनाव में स्मृति ने उत्तर प्रदेश की अमेठी सीट से उस समय के पार्टी उपाध्यक्ष राहुल गांधी और तब के आम आदमी पार्टी के नेता कुमार विश्वास के खिलाफ चुनाव लड़ा. यहाँ उन्होंने महज २३ दिनों में खूब टक्कर दी और पिछले चुनाव में ३ लाख से अधिक वोटों से जितने वाले राहुल गांधी १ लाख वोटों से ही जीत सके और वोटिंग के दौरान वेक बार वो पीछे भी हो गए थे और ऐसा पहली बार हुआ था. इस चुनाव में smriti irani भले हार गयीं , लेकिन भाजपा को बड़ी जीत हासिल हुई और भाजपा ने smriti irani को केन्द्रीय मंत्री बना दिया.

 

मानव संसाधन विकास मंत्री रहते हुए कई बार विवाद भी हुआ. विपक्ष ने आरोप लगाया कि विश्राम जामदार को नागपुर के विश्वेश्वराय नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी का अध्यक्ष इसलिए बनाया गया , क्योंकि वे आरएसएस से जुड़े हैं. इसी बीच स्मृति इरानी के एक और फैसले पर विवाद हो गया. बतौर मानव संसाधन विकास मंत्रालय रहते हुए स्मृति ईरानी द्वारा केन्द्रीय विद्यालय में पढ़ाई जाने वाली जर्मनी भाषा को विषयों से अलग करने के फैसले पर भी काफी विवाद हुआ था. दरअसल स्मृति ने इन स्कूलों को २०१४ में आदेश दिया था कि वो अपने स्कूल में जर्मनी भाषा की जगह बच्चों को संस्कृत भाषा पढ़ाएं. इतना ही नहीं इस मसले पर जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल ने नरेंद्र मोदी से बातचीत भी की थी. रोहित वेमुला आत्महत्या विवाद पर भी स्मृति इरानी पर आरोप लगे. स्मृति पर आरोप लगाया गया, कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने श्रम मंत्री बांदरू दत्तात्रेय और बीजेपी की छात्र शाखा, अखिल भारतीय विद्यालय परिषद के द्वारा की गई शिकायत पर हैदराबाद विश्वविद्यालय के कुलपति को वेमुला सहित दलित छात्रों के खिलाफ कठोर कदम उठाने को कहा था. जिसके कारण इस छात्र ने आत्महत्या कर ली थी.

 

तमाम विवादों के बाद स्मृति को कपड़ा मंत्रालय की जिम्मेदारी दी गयी और कुछ समय बाद स्मृति ईरानी को देश का सूचना और प्रसारण मंत्रालय सौंपा गया था, जिसकी वो अभी मंत्री हैं. मित्रों आपको यह पोस्ट smriti irani biography कैसी लगी जरुर बताएं और smriti irani biography की तरह की और भी जानकारी के लिए इस ब्लॉग को लाइक, शेयर और सबस्क्राइब करें और दूसरी पोस्ट के लिए नीचे की लिंक पर क्लिक करें.

1-snow white story in hindi/snow white story 

2-भरोसा hindi kahaniya

3-भरोसा hindi kahaniya

About the author

Abhishek Pandey

Leave a Comment