kids/cinderella story

क्रोध पर विजय

kids image
kids image
Written by Hindibeststory

क्रोध पर विजय एक व्यक्ति इस बात के लिए प्रसिद्ध था कि उसे कभी क्रोध नहीं आता था. चाहे कितनी भी मुसीबत आ जाए वह कभी क्रोधित नहीं होता था.लेकिन कुछ लोग ऐसे होते हैं जिन्हें सिर्फ बुरा ही नजर आता है.ऐसे ही व्यक्तियों में से एक ने निश्चय किया कि मैं इस व्यक्ति को क्रोध करने पर मजबूर कर दूंगा.

वह अपने काम में जुट गया और इसके लिए उसने कुछ लोगों की टीम बनायी. उसने उस भले मानस के नौकर से कहा कि अगर तुमने अपने मालिक को क्रोध दिला दिया तो तुम्हें बहुत बड़ा पुरस्कार दिया जाएगा.पहले तो नौकर ना किया लेकिन फिर वह बहकावे में आ गया. आपने यह कहावत तो सुनी ही होगी ” घर का भेदी लंका ढाए ” , यह यहाँ विल्कुल सही साबित हो रही थी. नौकर को पता था कि उसके मालिक सिकुड़ा हुआ बिस्तर थोड़ा भी पसंद नहीं है.

अब उसने रात को बिस्तर ठीक ही नहीं किया. सुबह होने पर भले मनुष्य ने अपने नौकर से प्यार से कहा की आज बिस्तर ठीक से लगा देना. नौकर ने बहाना बनाते हुए कहा कि मई क्षमा चाहता हूँ. मैं भूल गया था. लेकिन यह तो जानबूझ कर किया जा रहा था. इसलिए दुसरे दिन, तीसरे दिन, चौथे दिन और पांचवे दिन भी बिस्तर ठीक नहीं किया गया. तब उस भले मनुष्य ने कहा कि लगता है तुम बिस्तर ठीक करने के काम से ऊब गए हो और इसीलिए चाहती हो कि मेरा यह स्वभाव छूट जाये. कोई बात नहीं अब मुझे सिकुड़ी हुए बिस्तर पर सोने की आदत पड़ती जा रही है और मैं तुम्हारा आभारी हूँ कि तुमने मेरी यह आदत छुड़वा दी.इसके बाद नौकर के साथ ही उन दुष्ट व्यक्तिओं ने भी हार मान ली.

मित्रों मेरी यह kids story क्रोध पर विजय आपको कैसी लगी जरुर ही बताएं और भी अन्य kids story के लिए ब्लॉग को जरुर सबस्क्राइब कर लें और अन्य hindi story के लिए इस लिंक stories for kidsपर क्लिक करें.

About the author

Hindibeststory

Leave a Comment