हास्य कहानिया

tenaliram ki kahani पागल

tenaliram ki kahani पागल
tenaliram ki kahani पागल

tenaliram ki kahani पागल एक बार की बात पडोसी राज्य का खुफिया जासूस साधू का वेश धारण करके लोगों को अपने जाल में फंसाता और उन्हें प्रसाद में धतूरा खिलाकर लूट लेता . धतूरे के कारण कई लोग तड़पकर मर जाते तो कई लोग पागल हो जाते थे. लेकिन सबूत के आभाव में वह साधू कभी पकड़ा नहीं जाता था.

tenali rama को जब यह बात पता चली तो उन्हें बहुत बुरा लगा. उन्होंने तय किया कि इसे दंड अवश्य ही मिलना चाहिए. तभी tenali rama को पता चला कि राज्य में एक और व्यक्ति को उस जासूस ने अपना नया शिकार बनाया है और वह व्यक्ति पागल हो गया है.

तब tenali rama ने उस जासूस को सबक सिखाने की ठान ली. एक दिन उन्होंने उस जासूस को पकड़ लिया और उस जासूस को किसी तरह बहलाकर पागल के पास ले गए और मौक़ा पाकर पागल के सिर पर साधू अर्थात जासूस का हाथ पागल के सिर पर दे मारा.

इससे पागर का पारा सातवें आसमान पर पहुँच गया और उसने आव देखा ना ताव, जासूस की भरपूर पिटाई कर दी और इस पिटाई से जासूस की मृत्यु हो गयी. मामला राजा तक पहुँच गया. राजा ने पागल को पागलखाने भिजवा दिया. लेकिन जानबूझकर ह्त्या करवाने के जुर्म में tenali rama को हाथी के पाँव से कुचलवाने की सजा दी गयी.

आप पढ़ रहे हैं tenaliram ki kahani पागल

दो सिपाही उन्हें शाम को सुनसान जंगल में ले गए और गर्दन तक उन्हें मिटटी से दबा दिया और हाथी लाने चली गए. अभी वे निकले ही थे कि एक कुबड़ा धोबी उधर से गुजरा. उसने tenali rama को इस हाल में देखकर बोला ” भाई साहेब , क्या माजरा है. ऐसे धरती में क्यों गड़े हो “.

tenali rama का दिमाग काम किया. उन्होंने झट से कहा मैं भी तुम्हारी तरह कुबड़ा था. लोग मुझे चिढाते थे. तभी एक वैद्य ने यह उपचार बताया. आप मेरी एक मदद करोगे. ज़रा मिटटी हटाकर मुझे निकालकर ज़रा देखो कि कूबड़ दूर हुआ कि नहीं.

धोबी खुद कूबड़ से परेशान था. वह tenali rama की बातों में आ गया . उसने फटाफट मिटटी हटाई और यह आप तो बिलकुल ठीक हो गए..वह आश्चर्य से बोला. tenali rama भी खुश होने का अभिनय करने लगे. वह धोबी भी वहा खुद को गाड़ने की जिद करने लगा. उसने कहा कि मुझे यहाँ गाद दो और यह कपड़ा धोबी घाट पर मेरी पत्नी को दे देना और उससे कहना कि वह कल सुबह मेरा खाना यही लेकर आये. उसने विनती करते हुए कहा मैं तुम्हारा एहसान कभी नहीं भूलूंगा.

ठीक है मैं तुम्हे यहाँ गाड़ देता हूँ. लेकिन इसमें एक शर्त है . अगर तुमने उस शर्त का पालन नहीं किया तो तुम्हारा कूबड़ ठीक होने की बजाये और अधिक बाद जाएगा.

कैसी शर्त धोबी बोला

चाहे कुछ भी हो जाए कुछ भी तुम्हें सुबह तक कुछ नहीं बोलना है. चुपचाप रहना है…. तेनाली राम ने उसे चेताते हुए वहीँ गाड़ दिया और खुद ९ दो ११ हो लिए. कुछ देर बाद सिपाही हाथी लेकर आये तो दुसरे व्यक्ति को देखकर चौंक गए और बोले यहाँ एक आदमी गड़ा हुआ था. वह कहाँ गया. उसे मृत्यु दंड मिला था. लेकिन शर्त के अनुसार वह धोबी कुछ ना बोला.

tenaliram ki kahani पागल
tenaliram ki kahani पागल

आप पढ़ रहे हैं tenaliram ki kahani पागल

तब एक सिपाही क्रोधित होते हुये बोला लगता है यह उसका कोई रिश्तेदार है जो उसे निकालकर खुद यहाँ है. इसे ही हाथी से कुचलवा देते हैं. इतना सुनते ही धोबी की सिट्टी पिट्टी गम हो गयी और उसने पूरी बात बता दी. दोनों सिपाहियों ने माथा पीट लिया. तभी वहाँ से एक बुढा आदमी गुजर रहा था. उसने जब माजरा पूछा तो सिपाहियों ने सब बता दिया. उसने कहा जल्दी से धोबी को निकालो नहीं तो गलत आदमी को सजा देने और कैदी को भगाने की जुर्म में महाराज तुम्हे ही फांसी पर लटकवा देंगे. सिपाहियों ने फटाफट धोबी को बहार निकाला और बोले अब क्या होगा. अब तो हमारी मौत निश्चित है.

तब उन बूढ़े बाबा ने कहा कि एक काम करना राजा को बोलना कि कैदी को धरती निकल गयी. सिपाहियों को बात जम गयी. लेकिन सिपहियों ने बूढ़े बाबा से कहा यह बात हम तो कहेंगे, लेकिन सबूत के लियए आपको हमारे साथ चलना होगा.

इधर गुप्त सूत्रों से राजा को उस जासूस के बारे में सबकुछ पता चल गया था. वे बड़े ही दुखी थी कि उसी समय सिपाहियों ने उन्हें साड़ी बात बता दी. वह खुश हो गए और बोले गलती ” तुम लोग झूठ बोल रहे हो, लेकिन हमें ख़ुशी इस बात की है कि tenali rama अपनी बुद्धि से बचने में कामयाब हो गये. अतः तुम लोगों की सजा माफ़ की जाती है लेकिन अगर कल सुबह तक तुम लोग tenali rama ढूंढ़कर नहीं लाओगे, तो तुम्हे मृत्युदंड मिलेगा.

ढूँढने की कोई आवश्यकता नहीं है महाराज मैं स्वयं उपस्थित हूँ और tenali rama ने बूढ़े बाबा वेश उतारते हुए बोले. वहाँ उपस्थित सभी लोग बहुत आश्चर्य चकित हुए और राजा बहुत प्रसन्न हुए. इस तरह से tenali rama अपनी बुद्धि से अपनी जान बचा ली. मित्रों आपको यह tenali rama short story tenaliram ki kahani पागल कैसी आगी अवश्य ही बताएं और भी अन्य hindi kahani के लिए इस लिंक https://www.hindibeststory.com/motivational-story-in-hindi/ पर क्लिक करें.

About the author

Hindibeststory

Leave a Comment