Uncategorized

Teri Yaad sad love story in hindi

short hindi poem
Written by Abhishek Pandey

Teri Yaad sad love story in hindi तुम्हें  क्या हासिल हुआ वह मैं नहीं जानता हूँ और ना ही जानने की अब कोई इच्छा ही बाकी रह गयी है. लेकिन मैं इतना अवश्य जानता हूँ और दावे के साथ कह सकता हूं कि तुमने उस शख्स को खोया है जो तुम्हें खुद से भी ज्यादा प्यार करता था और शायद है भी.

चलो जाने दो तुम्हें जो अच्छा लगा वह तुमने किया…..कोई बात नहीं….लेकिन एक बात का ध्यान रहे खुदा के वास्ते अब मेरी ज़िन्दगी में दुबारा कभी भी दाखिल होने की कोशिश मत करना…..अब  मै और सहन नहीं कर पाऊंगा….दुबारा कभी भी मिलने की कोशिश भी नहीं करना …..क्योंकि जब भी मैं तुम्हें देखूंगा तो तुम्हारी यह बेवफाई मुझे याद आएगी और हो सकता है कि मैं खुद को संभाल ना सकूं.

Teri Yaad sad love story in hindi

Teri Yaad sad love story in hindi

उस दिन अचानक ही साक्षी की नजर रौनक के द्वारा लिखे हुए आखिरी ख़त पर पड़ी जो कि महीनो से उसकी किताब में दबा हुआ था. अब साक्षी अपने पुराने दिनों में खो गयी . साक्षी का कालेज का पहला दिन था. वह जैसे ही कालेज में आयी बाकी लड़कों ने उसकी रैंगिंग शुरू कर दी. उसे लंगड़ाते हुए चलने को कहा गया. साक्षी इस कालेज में नई थी . उसका कोई दोस्त भी  नहीं  था. तब रौनक ने उसे बचाया और सारे स्टूडेंट्स को खूब डांट लगाईं. रौनक एक स्थानीय नेता का बेटा था, लेकिन वह कभी भी अपने पावर का गलत इस्तेमाल नहीं करता था.

आप पढ़ रहे हैं Teri Yaad sad love story in hindi

समय बीता…..साक्षी और रौनक में नजदीकियां बढ़ने लगी. अब दोनो बहुत अच्छे दोस्त बन चुके थे. उनकी दोस्ती को देखकर बाकी स्टूडेंट्स को जलन होती थी. बहुत ही ख़ूबसूरत जोड़ी थी. लेकिन शायद इस खुबसूरत जोड़ी को किसी की नजर लग गयी. पढाई पूरी होने के बाद साक्षी एक प्रतिष्ठित कंपनी में जॉब करने लगी. दोनों की मुलाकाते होती रहती थी. इधर इलेक्शंस के टाइम आ गए और साक्षी के काल आने भी कम हो गए. उस दौरान रौनक ने कई बार साक्षी से  मिलने की कोशिश की, लेकिन साक्षी कोई ना कोई बहाना बनाकर मिलाने से मना कर देती.

इलेक्शंस खत्म हुए. रौनक के पापा की बड़ी जीत हुई. हर तरफ खुशियाँ ही खुशियाँ ही थी, लेकिन रौनक के लिए दुखों का पहाड़ तैयार था. रौनक जीत की बात खुद बताने जब साक्षी के घर गया तो पता चला कि वे लोग यहां से जा चुके हैं. वहाँ कोई दूसरा किरायेदार आ गया था. रौनक ने पूरा शहर छान माना, लेकिन साक्षी नहीं मिली. वह जॉब भी छोड़ चुकी थी.

Teri Yaad sad love story in hindi

Teri Yaad sad love story in hindi

रौनक बुरी तरह टूट गया था……बहुत मुश्किलों से वह अपने आपको संभाला…..तब उसने यह चिट्ठी लिखी और रोशनी जो कि साक्षी की बेस्ट फ्रेंड थी उसके हाथों इसे भिजवा दिया…..लेकिन साक्षी ने इसे खोला नहीं बल्कि वैसे ही रख दिया.

यह ख़त पढ़ने के बाद साक्षी फूट-फूट कर रोने लगी….वह भी रौनक से बहुत प्यार करती थी, लेकिन उसका परिवार एक  मध्यमवर्गीय परिवार था. जबकि रौनक एक प्रतिष्ठित राज नेता की फैमिली से था…..सो हर समय साक्षी के मन में  यह इस दूरी का भय लगा रहता था….और इसे वह रौनक के साथ कभी शेयर नहीं कर और इस तरह इस sad love का अंत हो गया. दोस्तों  यह sad love story  Teri Yaad sad love story in hindi थी. इसी तरह की अन्य sad story in hindi के लिए इस लिंक प्रेम का बंधन love story आर क्लिक करें.

About the author

Abhishek Pandey

Leave a Comment