आवश्यक जानकारी

उपभोक्ता फोरम जानिये इसके बारे सब कुछ

उपभोक्ता फोरम जानिये इसके बारे सब कुछ

उपभोक्ता फोरम जानिये इसके बारे सब कुछ भारत में २४ दिसंबर राष्ट्रीय उपभोक्ता दिवस के रूप में मनाया है. सन १९८६ में २४ दिसंबर के दिन उपभोक्ता सरक्षण अधिनियम पारित हुआ था. इस अधिनियम में १९९१ और १९९३ में संशोधन किया गया. इसके अतिरिक्त इस कानून को और अधिक सशक्त बनाने के लिए दिसंबर २००२ में एक व्यापक संशोधन लाया गया और फिर इसे १५ मार्च २००३ को लागू किया गया. इसके अतिरिक्त उपभोक्ता संरक्षण नियम १९८७ में भी संशोधन किया गया और ५ मार्च २००४ को को अनुसुचित किया गया. भारत सरकार ने २४ दिसंबर को राष्ट्रीय उपभोक्ता दिवस घोषित किया है. इसके अतिरिक्त १५ मार्च को विश्व उपभोक्ता अधिकार दिवस के रूप में मनाया जाता है. यह दिन भारतीय ग्राहक आन्दोलन के इतिहास में सुनहरे अक्षरों में अ गया है. भारत में यह इसे पहली सन २००० में मनाया गया था और तब से इसे प्रत्येक वर्ष मनाया जाता है.


उपभोक्ता फोरम जानिये इसके बारे सब कुछ ग्राहक सरक्षण कानून से सम्बंधित महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि किसी शासकीय पक्ष नी इसे तैयार नहीं किया बल्कि इसे अखिल भारतीय ग्राहक पंचायत ने इसका मसौदा तैयार किया. १९७९ में ग्राहक पंचायत की अंतर्गत एक कानून समिति का गठन हुआ. इस समिति के अध्यक्ष गोविन्ददास और सचिव सुरेश बहिरात थे. इसके अलावा शंकरराव पाध्ये, वकील गोविंदराव आठवले , स्वाति शहाणे इस समिति के सदस्य थे. ग्राहक पंचय्यत की स्थापना १९४७ में की गयी थी और उसी समय यह बात सबके ध्यान में आने लगी कि ग्राहकों को हर क्षेत्र में ठगा जा रहा है. उसका नुकसान हो रहा है लेकिनं उसके पास न्याय माँगने का कोई कानून नहीं है. अगर ग्राहक ने इस अन्याय का प्रतिकार भी किया तो व्यापारी उस पर लूट आदि का आरोप लगा देते थे. इसी को देखते हुए ग्राहक पंचायत ने इसके लिए कानून बनने का निश्चय किया.

उपभोक्ता फोरम जानिये इसके बारे सब कुछ
उपभोक्ता फोरम जानिये इसके बारे सब कुछ

१९७७ में लोनावाला में इसकी सदस्यों ने बैठक की और इसमें एक प्रस्ताव पारित करके कानून की मांग की गयी और १९७८ में एक मांग पत्र प्रकाशित किया गया. ९ अप्रैल १९८० को कानून समिति की पहली बैठक में कानून का प्रारूप समिति के सामने रखा गया . इस पर चर्चा के बाद इसी अनीक कानून विशेषज्ञों के पास भेजा गया . राज्य सरकार के पदस्थ सचिव और उच्च न्यायलय के पदस्थ न्यायाधीश से भी चर्चा की. उसके बाद यह कानून अस्तित्व में आया. मित्रों यह पोस्ट उपभोक्ता फोरम जानिये इसके बारे सब कुछ आपको कैसी लगी अवश्य ही बताये और अन्य जानकारी के लिए इस लिंक https://www.hindibeststory.com/hindi-bhakti-gee/ पर क्लिक करें.

About the author

Hindibeststory

Leave a Comment